लार्ड कर्जन की नीति

Lord Karjan Ki Neeti

Pradeep Chawla on 13-10-2018

कर्ज़न ने 1899-1990 ई. में पड़े अकाल व सूखे की स्थिति के विश्लेषण के लिए 'सर एण्टनी मैकडॉनल' की अध्यक्षता में एक 'अकाल आयोग' की नियुक्ति की।
लार्ड कर्जन ने 1902 ई. में 'सर एण्ड्रयू फ़्रेजर' की अध्यक्षता में एक 'पुलिस आयोग' की स्थापना की।
कर्जन ने शैक्षिक सुधारों के लिए 1902 ई. में 'सर टॉमस रैले' की अध्यक्षता में 'विश्वविद्यालय आयोग' का गठन किया। जो 1904 ई. पारित किया गया। इस अधिनियम के आधार पर विश्वविद्यालय पर सरकारी नियन्त्रण बढ़ गया।
लार्ड कर्जन ने सैन्य अधिकारियो के प्रशिक्षण के लिए क्वेटा में एक कॉलेज की स्थापना की.
भूमिकर को अधिक उदार बनाने हेतु लॉर्ड कर्ज़न द्वारा 16 जनवरी, 1902 को 'भूमि प्रस्ताव' लाया गया।
कर्ज़न ने 1901 ई. में 'सर कॉलिन स्कॉट मॉनक्रीफ़' की अध्यक्षता में एक 'सिंचाई आयोग' का भी गठन किया.1904 ई. में 'सहकारी उधार समिति अधियिम' पेश हुआ, जिसमें कम ब्याज दर पर उधार की व्यवस्था की गयी।
भारतीय रेलवे के विकास के क्षेत्र में सर्वाधिक रेलवे लाइनों का निर्माण लॉर्ड कर्ज़न के समय में ही हुआ।
कर्जन के समय में ही इंग्लेड के रेल विशेषज्ञ 'राबटर्सन' को भारत बुलाया गया। उन्होंने वाणिज्य उपक्रम के आधार पर रेल लाइनों के विकास पर बल दिया।
लार्ड कर्जन ने 1904 ई. में 'प्राचीन स्मारक संरक्षण अधियम', पारित किया. इस कार्य के लिए भारतीय पुरातत्व विभाग की स्थापना की.
1905 ई. में 'बंगाल का विभाजन' भी लार्ड कर्जन के समय में हुआ, जिसके बाद भारत में क्रन्तिकारी गतिबिधियो का सूत्रपात हुआ.
1905 में लार्ड कर्जन ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया.



Comments Suneel d on 10-12-2019

Vaskodigama kahan ka Rahane wala tha



आप यहाँ पर लार्ड gk, कर्जन question answers, general knowledge, लार्ड सामान्य ज्ञान, कर्जन questions in hindi, notes in hindi, pdf in hindi आदि विषय पर अपने जवाब दे सकते हैं।

Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment