इंद्रावती नदी की लोककथा

Indrawati Nadi Ki LokKatha

Pradeep Chawla on 01-11-2018


इन्द्रावती
में इंद्रावती नदी
देश
राज्य
जिले , , ,
लम्बाई386 (240 )
उद्गम
- स्थानथुआमुल, , ,
- निर्देशांक इंद्रावती नदी की लोककथा Invalid arguments have been passed to the {{#coordinates:}} function
मुख
- स्थान , , ,
मुख्य सहायक नदियाँ
- वामांगीपामेर, चिंटा

इंद्रावती नदी ( : ఇంద్రావతి నది) की एक बड़ी नदी है और की सहायक नदी है। इस नदी नदी का उदगम स्थान के के रामपुर थूयामूल में है। नदी की कुल लम्बाई 240 मील (390 कि॰मी॰) है। यह नदी प्रमुख रूप से राज्य के में प्रवाहित होती है। दन्तेवाडा जिले के भद्रकाली में इंद्रावती नदी और का सगंम होता है। अपनी पथरीले तल के कारण इसमे नौकायन संभव नहीं है। इसकी कई सहायक नदियां हैं, जिनमें पामेर और चिंटा नदियां प्रमुख हैं।


इंद्रावती नदी बस्तर के लोगों के लिए आस्था और भक्ति की प्रतीक है। इस नदी के मुहाने पर बसा है छत्तीसगढ़ का शहर जगदलपुर। यह एक प्रमुख सांस्कृतिक एवं हस्तशिल्प केन्द्र है। यहीं पर मानव विज्ञान संग्रहालय भी स्थित है, जहां बस्तर के आदिवासियों की सांस्कृतिक, ऐतिहासिक एवं मनोरंजन से संबंधित वस्तुएं प्रदर्शित की गई हैं। डांसिंग कैक्टस कला केन्द्र, बस्तर के विख्यात कला संसार की अनुपम भेंट है। यहां एक प्रशिक्षण संस्थान भी है। इसके अलावा इंद्रावती नदी के किनारे बसा हुआ है। उद्यान का कुल क्षेत्रफल 2799 वर्ग किमी है। के निकट मात्र 40 किमी की दूरी पर स्थित स्थित है। अपने घोडे की नाल समान मुख के कारण इस जाल प्रपात को भारत का निआग्रा भी कहा जाता है। यह भारत का सबसे बड़ा जल-प्रपात है। यहां इंद्रावती नदी 90 फुट की उंचाई से प्रपात रूप में गिरती है। यहां मछली पकड़ने, नाव चलाने और तैराकी की सुविधाएं भी उपलब्ध हैं। यह जलप्रपात कनाडा के के बाद विश्व का दूसरा सबसे बड़ा जलप्रपात माना जाता है।[ ] यहां से 10 किमी की दूरी पर नारायणपाल मंदिर स्थित है।



Comments Bhupendra on 13-02-2021

इंद्रावती का लोक कथा बताइए

दादू on 07-01-2020

इंद्रावती में कौन से रहस्य छुपे हुए हैं और अभी तक उसको वैज्ञानिक ने निकाल नहीं पाया है

Rahul on 02-11-2019

Lokth. Endravati

Saroj deep on 05-11-2018

Indravati nadi ke bare lok katha



Labels: , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment