कार्बोहाइड्रेट का रासायनिक सूत्र

Carbohydrate Ka Rasayanik Sutra

Pradeep Chawla on 19-10-2018

कार्बोहाइड्रेट ऊर्जा प्रदान करने वाले पदार्थों का वर्ग है। ये रासायनिक यौगिक होते हैं जिनमें कार्बन, हाइड्रोजन एवं ऑक्सीजन होते हैं। कार्बोहाइड्रेट कार्बनिक यौगिक होते हैं जो कि पचने के पश्चात ग्लूकोज में परिवर्तित हो जाते हैं और ग्लूकोज ऑक्सीजन के द्वारा ऑक्सीकृत होकर शरीर को ऊर्जा प्रदान करते हैं। कार्बोहाइड्रेट में कार्बन, हाइड्रोजन एवं ऑक्सीजन 1 : 2: 1 के अनुपात में होता है। इनका आधारभूत सूत्र (CH2O)n होता है। कार्बोहाइड्रेट ऊर्जा का प्रमुख स्रोत है। शरीर की कुल ऊर्जा आवश्यकता की 50-79% मात्रा की पूर्ति कार्बोहाइड्रेट के द्वारा होती है। 1 ग्राम ग्लूकोज के पूर्ण ऑक्सीकरण से 4.2 किलो कैलोरी (kcal) ऊर्जा प्राप्त होती है।


कार्बोहाइड्रेट के स्रोत (sources of carbohydrate): कार्बोहाइड्रेट के प्रमुख स्रोत गेहूँ, चावल, मक्का, ज्वार, बाजरा, जौ, शक्कर, गुड़, शहद, सूखे फल, अंजीर, दूध, पके फल, आलू, शकरकंद, चुकंदर, रसीले फल, गन्ना, शलजम, अरबी, मांस आदि हैं।


कार्बोहाइड्रेट के प्रकार: कार्बोहाइड्रेट मुख्यतः तीन प्रकार के होते हैं-


(a) मोनोसैकेराइडस (Monosaccharides): यह सभी कार्बोहाइड्रेट्स में सबसे अधिक सरल होता है। इसका आधारभूत सूत्र (CH2O)n होता है। मोनोसैकेराइड्स के कुछ प्रमुख उदाहरण निम्नलिखित हैं-


ट्रायोस (Triose)- जैसे- ग्लिसरैल्डिहाइड (Glyceraldehyde)


टेट्रोस (Tetrose) जैसे- इरेथ्रोस (Erthrose)


हेक्सोस (Hexose)- जैसे- ग्लूकोस (Glucose), फ्रक्टोस (Fructose) एवं गैलेक्टोस (Glactose)


(b) डाइसैकेराइड (Disaccharides): यह मोनोसैकेराइड के दो अणुओं से मिलकर बना होता है। इसका आधारभूत सूत्र C12H22O11 होता है। सुक्रोस (Sucrose), माल्टोज (Maltose), लैक्टोज (Lactose) आदि डाइसैकेराइड्स के प्रमुख उदाहरण हैं।


(c) पॉलीसैकेराइड्स (Polysaccharides): यह अनेक मोनोसैकैराइड्स अणुओं के मिलने से बनता है। इसका आधारभूत सूत्र (C6H11O5)n होता है। ये जल में अघुलनशील होते हैं। यह मुख्यतः पौधों में पाया जाता है। आवश्यकता पड़ने पर यह जल अपघटन (Hydrolysis) द्वारा ग्लूकोज (Glucose) में विघटित हो जाता है। इस प्रकार ये ऊर्जा उत्पादन के लिए संग्रहीत ईंधन का कार्य करते हैं। मण्ड (स्टार्च), ग्लाइकोजेन, सेल्यूलोज (Cellulose), काइटिन (Chitin) आदि पॉलीसैकेराइड्स के प्रमुख उदाहरण हैं।


कार्बोहाइड्रेट के कार्य:

  1. ये शरीर को ऊर्जा प्रदान करने वाले मुख्य स्रोत होते हैं।
  2. ये मण्ड के रूप में ‘संचित ईंधन’ का कार्य करते हैं।
  3. यह वसा में बदलकर संचित भोजन का कार्य करते हैं।
  4. यह DNA तथा RNA का घटक होता है।
  5. ये शर्कराओं के रूप में ऊर्जा उत्पादन के लिए ईंधन का काम करते हैं।
  6. ये प्रोटीन को शरीर के निर्माणकारी कार्यों के लिए सुरक्षित रखते हैं।
  7. शरीर में वसा के उपयोग के लिए यह अत्यंत आवश्यक है।

कार्बोहाइड्रेट की कमी या अधिकता से होने वाले विकार: कार्बोहाइड्रेट की अधिकता से शरीर के वजन में वृद्धि होती है तथा मोटापा से सम्बन्धित रोग होने की संभावना बढ़ जाती है। कार्बोहाइड्रेट की कमी होने से शरीर का वजन कम हो जाता है, कार्य करने की क्षमता घट जाती है तथा शरीर में ऊर्जा उत्पन्न करने हेतु प्रोटीन प्रयुक्त होने लगती है जिससे यकृत एवं नाड़ी संस्थान के क्रियाकलापों में शिथिलता आ जाती है।





Comments Carbohydrate ka sutra on 03-10-2021

Yes

Bhavararam on 15-04-2021

Carbohydrates sarchna furmola

Sp Singh thakur on 28-11-2019

Pachan Kriya Mein enzyme ki Bhumi per Ek nibandh likhiye

Gulukose on 28-11-2019

Gulucose chane

Kashish on 02-11-2019

Poly saccharide ka samanya suthra

Satyam on 20-10-2019

Carbohydrates ka rasaynic name


vikash vikash on 20-09-2019

hydrogen carbon sutr

Yogendra kumar on 18-09-2019

Carbohydrates ke khoj Karta kon Hai?

Pushpendra paikra on 13-09-2019

Karbohaidrat ka sutra
Kya Hai

Priti ojha on 22-08-2019

Carbohydrate home science ka chapter download BA first year

Priti ojha on 22-08-2019

Carbohydrate kya hai uske sutra aur prakar bataiye

Vineet kumar on 21-08-2019

Carbohydrate ka rasayanik sutra




Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment