गणगौर को पानी पिलाने के दोहे

Gangore Ko Pani Pilane Ke Dohe

GkExams on 20-05-2021

गणगौर को पानी पिलाने के दोहे

इस पूजन में गणगौर माता को पानी पिलाते समय दोहे के रूप में पति का नाम लिया जाता है। उन्हीं में से कुछ मजेदार दोहे------

(इन दोहो को बोलते समय आपको पिया जी के स्थान पर अपने पति का नाम लेना है)


  • चौधरी परिवार की बहू हूंँ मैं, और मधु मेरा नाम

पिया जी है पति परमेश्वर, जोधपुर ही है मेरे चारों धाम।

(अपने परिवार और शहर का नाम ले )


  • एक दूनी दो, दो दूनी चार, पिया जी को हो गया मुझसे प्यार।



  • खेत, खेत में क्यारी मैं पिया जी की प्यारी।



  • गोरा के मन में है, ईसर, राधा के मन में श्याम

जो मेरे मन को भावे पिया जी है उनका नाम।


  • किसी को वाइट पसंद है, किसी को लाइट पसंद है

मुझे तो पिया जी की हाइट पसंद है।


  • 32,000 की बग्गी मेरी, 40000 का घोड़ा

पिया जी के लिए मैंने उज्जैन शहर छोड़ा।


  • कटोरे में कटोरा, कटोरे में घेवर

पिया जी मेरी भाभी के देवर।

  • लाल मिर्च खाते नहीं, हरी मिर्च लाते नहीं

पिया जी मुझे लिए बगैर कहीं जाते नहीं।


  • बगीचे में क्यारी, क्यारी में पानी,

पिया जी मेरे राजा, मैं पिया जी की रानी।


  • सोने के कड़े में हीरे जड़े

पीछे पलट के देखा तो पिया जी खड़े।


  • इमली खाऊ, खट्टी -मीठी और मैं खाऊं बोर

पिया जी है ईसर मेरे,मैं उनकी गणगौर।


  • गागर में सागर, सागर में पानी

पिया जी नहीं घर पर ,तो नींद कैसे आनी।


  • आपकी मुस्कुराहट ने ऐसा अटैक किया

पिया जी आपको सिलेक्ट किया,बाकी सब को रिजेक्ट किया


  • मस्तक पर तिलक, गले में हार है

मुझे पिया जी से पिया जी को मुझसे प्यार है।


  • वह है दीपक मैं उनकी बाती

हर जन्म में हो पिया जी मेरे जीवन साथी।

  • कमरे में अलमारी ,अलमारी में नोटों की थप्पी

पिया जी ने चुपके से ले ली मेरी पप्पी।



      • 1234567 पिया जी है मेरे heaven



        • चप्पल पहनु बाटा ,साड़ी पहनु कोटा

          पिया जी जाए बाहर, तो मैं करूं टाटा।



            • फागुन का महीना और गुलाबी रंग

              पिया जी का और मेरा जीवन भर का संग।



                • मीरा ने पीया विष का प्याला, राधा ने श्याम को मदहोश कर डाला
                गौरी ने पहनाई शिव को माला, गणगौर पूजा से मुझे मिला
                पियाजी जैसा दिलवाला।


                गणगौर माता के दोहे (Gangaur Mata ke Dohe)

                जात है गुजरात है, गुजरात का बाणया खाटा खूटी ताणया
                गिण मिण सोला, सात कचोला इसर गोरा
                गेहूं ग्यारा, म्हारो भाई ऐमल्यो खेमल्यो, लाडू ल्यो ,
                पेडा ल्यो जोड़ जवार ल्यो, हरी हरी दुब ल्यो, गोर माता पूज ल्यो


                Gangaur ke dohe hindi me

                भावज ले गटकायगी, चुन्दडी ओढायगी
                चुन्दडी म्हारी हरी भरी,
                शेर सोन्या जड़ी शेर मोतिया जड़ी, ओल झोल गेहूं सात
                गोर बसे फुला के पास, म्हे बसा बाणया क पास
                कीड़ी कीड़ी लो, कीड़ी थारी जात है


                गोरा के मन में है, ईसर, राधा के मन में श्याम


                जो मेरे मन को भावे पिया जी है उनका नाम।


                किसी को वाइट पसंद है, किसी को लाइट पसंद है


                मुझे तो पिया जी की हाइट पसंद है।


                बगीचे में क्यारी, क्यारी में पानी,


                पिया जी मेरे राजा, मैं पिया जी की रानी।


                सोने के कड़े में हीरे जड़े


                पीछे पलट के देखा तो पिया जी खड़े।

                Gangaur ke dohe in hindi


                गौर गौर गणपति, ईसर पूजे पार्वती,पार्वती के आला टिका,
                गौर के सोने का टिका, माथे है रोली का टिका,
                टिका दे चमका दे राजा राजना वरत करे।

                हल्दी गांठ गठीली ईसर राज की ब्रह्मदास की बहू है हठीली,
                मांगी सोना री बिंदी, बिंदी बेच घड़ाई बई पारो झमकाई।

                आया रे आया गणगौर का त्यौहार है आया
                संग में खुशियां और प्यार है लाया
                गणगौर की ढेर सारी शुभकामनायें

                Gangaur Mata ke Dohe in Hindi

                घडी दोय जावता पलक दोय आवता सहेलियाँ में बातां चितां लागी हो रसीया घडी दोय खेलवाने जावादो थारो नथ भलके थारो चुड़लो चमके थारा नेना रा निजारा प्यारा लागे हो मारुजी थारा बिना जिवडो भुल्यो डोले

                प्रारंभ का गीत –(Gangaur Geet)

                गोर रे, गणगौर माता खोल ये , किवाड़ी


                बाहर उबी थारी पूजन वाली,


                पूजो ये, पुजारन माता कायर मांगू


                अन्न मांगू धन मांगू , लाज मांगू लक्ष्मी मांगू


                राई सी भोजाई मंगू.


                कान कुवर सो, बीरो मांगू इतनो परिवार मांगू..

                पानी पिलाने का गीत –

                म्हारी गोर तिसाई ओ राज घाटारी मुकुट करो


                बिरमादासजी राइसरदास ओ राज घाटारी मुकुट करो


                म्हारी गोर तिसाई ओर राज


                बिरमादासजी रा कानीरामजी ओ राज घाटारी


                मुकुट करो म्हारी गोर तिसाई ओ राज


                म्हारी गोर ने ठंडो सो पानी तो प्यावो ओ राज घाटारी मुकुट करो..


                (इसमें परिवार के पुरुषो के नाम क्रमशः लेते जायेंगे…..




                Comments Umesh on 15-04-2021

                Umesh sen

                Rinkoo on 15-04-2021

                Gangaur status

                Nnnnn on 07-04-2021

                Kwari ladki ke liye gangor ki shayari

                Kunal on 29-03-2021

                Gangore dohe

                Ankita on 12-03-2021

                Gangour ke dohe bataye hauband ka nam lege hai wo

                Mukesh on 27-03-2020

                Sayari


                Varsha on 27-03-2020

                Gangor pani pilane ke dohe

                Titu on 27-03-2020

                Cvhj

                Sonu on 17-03-2020

                Dohe

                Suman on 11-03-2020

                Gangore geet



                Labels: , , , , ,
                अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




                Register to Comment