बैगा जनजाति के रीति रिवाज

Baiga JanJati Ke Reeti Riwaj

GkExams on 24-11-2018

अधिकतर आदिवासी समाजों में महिलाओं का सम्मानजनक स्थान होता है। ज्‍यादातर आदिवासी समुदायों का मानना है कि महिलाओं में नेतृत्‍व दक्षता पुरूषों से कहीं अधिक बेहतर होती है। आदिवासी समाज में ऊंच-नीच, जात-पात, अमीर-गरीब, महिला-पुरूष जैसे फर्क नहीं होते। यहां कन्‍या भ्रूण हत्‍या, बाल विवाह, दहेज जैसी कुप्रथाएं नहीं होती। आदिवासियों में महिलाओं को सम्मान देने की परंपरा है और इसी परंपरा का पालन मध्‍यप्रदेश और छत्‍तीसगढ़ का बैगा आदिवासी समुदाय भी करता है।

बैगा समाज में लड़के और लड़कियों के बीच कोई फर्क नहीं किया जाता। यहां दोनों को एक समान प्रेम विवाह की आजादी है। यहां लड़कियां अपने जीवनसाथी का चुनाव खुद ही करती हैं। शादी से पहले संबंध बनाने पर भी यहां कोई रोक-टोक नहीं है, लेकिन जब इस बारे में समाज को पता चलता है तो वे खुद उनकी शादी करवा देते हैं। बैगा समाज में यूं तो शादी की कई परंपराएं हैं, लेकिन एक परंपरा बेहद खास है। इस समाज में यदि कोई युवती दूसरा विवाह करना चाहती है तो उसे तलाक के लिए कोर्ट-कचहरी के चक्‍कर नहीं काटने पड़ते। दूसरे विवाह की इच्‍छुक लड़की पर एक लोटा गर्म पानी डालकर उसे पवित्र कर दिया जाता है। जिसके बाद वह दूसरे विवाह के लिए पूरी तरह स्‍वतंत्र होती है।

यहां लड़कियां अपने पसंद के लड़के के घर में जाकर उससे शादी करने की बात भी बता सकती हैं। इस समाज में पूर्णविवाह और विधवा विवाह भी आम बात है। बैगा समाज में बहुपत्नी रखने का रिवाज है तो लड़की अपनी मर्जी से दूसरा विवाह कर सकती है।

बैगा समाज की अलग-अलग विवाह परंपरा

उधरिया विवाह:

उधरिया विवाह ही वह रस्‍म हैं, जहां दूसरी शादी की इच्‍छुक लड़की को गर्म पानी से पवित्र किया जाता है। यह पुनर्विवाह की एक रोचक पद्धति है, जिसमें महिला अपने पति को छोड़कर किसी और से शादी करने का फैसला करती है। इसके लिए विवाहिता अपने पति को छोड़कर किसी दूसरे आदमी के घर में घुस जाती है। इसके बाद गांव के पंच इकट्ठे होते हैं। इस तरह घुसी लड़की पर भावी देवर एक लोटा गरम पानी डाल देता है। इसका मतलब लड़की पवित्र हो गई।

अगले दिन पंचों को मंद (शराब) पिलाई जाती है। पहला पति दूसरे पति से हर्जाना वसूल करता है, जिसे दावा कहते हैं। दावा में 200 रुपए नकद और गाय-बैल भी शामिल होते हैं। इसका फैसला मुकद्दम (न्याय करने वाला आदमी) करता है। दावा चुकाने के बाद दोनों पक्षों में मिलौकी होती है। इसके बाद खपरों पर एक-एक रुपया घास और कच्चा धागा रखकर पंचों के सामने खपरों को तोड़ देता है। इसका अर्थ पुराने संबंधों का टूटना है। इन रुपयों की शराब पी जाती है। नवविवाहिता पूर्व पति और वर्तमान पति तथा पंचों को भोजन कराती है। भोजन कर पूर्व पति अपने घर चला जाता है।

पैठुल विवाह में कुंवारी युवती अपनी पसंद के लड़के से शादी करने के लिए उसके घर में रात के समय चुपचाप घुस जाती है। वह घर के पिछवाड़े से घुसती है और लड़के के ऊपर हल्दी, चावल छिड़क देती है। हल्दी और चावल डालने का मतलब है कि लड़की ने लड़के को पसंद कर लिया है। लड़के का पिता गांव के प्रमुख लोगों को बुलाकर इस बात की जानकारी देता है कि अमुक लड़की हमारे घर में पैठुल हो गई। इसके बाद लड़की को बुलाकर दुबारा उसकी इच्छा पूछी जाती है। लड़की के जेवरों की जांच की जाती है कि वह कितने जेवर पहनकर आई है फिर उसके बाद घर के आंगन में मंडप गड़ाया जाता है और तुरंत भांवर कर दी जाती है। बाद में लड़की के घर खबर भेज दी जाती है कि उनकी लड़की हमारे घर पैठुल हो गई।

खबर मिलने के बाद लड़की का पिता अपने रिश्तेदारों के साथ लड़के वालों के घर पहुंचता है और वहां शादी की तारीख तय की जाती है। इस विवाह में लड़की वाले लड़के वालों से तीन-चार सौ रुपए खर्च वसूलते हैं। यदि लड़के का पिता खर्च नहीं देता है, तो लड़के को अपने ससुर के घर तीन साल तक रहना पड़ता है। यदि लड़के वाला पैसा दे देता है, तो विवाह बड़ी धूमधाम से हो जाता है।

चोर विवाह:

बैगा जनजाति में प्रेम विवाह का प्रचलन सबसे ज्‍यादा होता है। इस प्रेम विवाह को 'ले भगा ले भगी या चोर विवाह' भी कहते हैं। इसमें लड़का-लड़की अपनी मर्जी से भाग जाते हैं। इसके बाद किसी दोस्त के हाथ अपने घर खबर भेज देते हैं कि हम लोग इस समय पर इस जगह पर मिलेंगे। खबर मिलने के बाद लड़का और लड़की के माता-पिता उस जगह पर पहुंच जाते हैं और उन्हें मनाकर अपने घर ले आते हैं। इसके बाद पूरे रस्‍मो-रिवाज के दोनों की शादी करवा दी जाती है।

उठवा विवाह:

बैगा समाज में उठवा विवाह बहुत अधिक होता है। इस रस्‍म में शादी का पूरा खर्च लड़के वाले उठाते हैं। इसमें लड़की के पिता, रिश्तेदार, मित्र सभी लड़के वालों के यहां पहुंच जाते हैं। दोनों पक्षों की ओर से सगाई की तारीख तय की जाती है। इसके बाद विवाह की तारीख निश्चित होती है और सभी रस्मों के साथ विवाह सम्‍पन्‍न होता है।



Comments

आप यहाँ पर बैगा gk, जनजाति question answers, रीति general knowledge, रिवाज सामान्य ज्ञान, questions in hindi, notes in hindi, pdf in hindi आदि विषय पर अपने जवाब दे सकते हैं।

Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment