खंडवा जिले का इतिहास

Khandwa Jile Ka Itihas

GkExams on 14-01-2019

12वीं शताब्दी में खंडवा नगर जैन मत का महत्त्वपूर्ण स्थान था। यह नगर पुरातन नगर है, यहाँ पाये जाने वाले अवशेषों से यह सिद्ध होता है, इसके चारों ओर चार विशाल तालाब, नक़्क़ाशीदार स्तंभ और जैन मंदिरों के छज्जे स्थित हैं।

आधुनिक नगर

1864 से यह नगर मध्य प्रदेश के नवगठित निमाड़ ज़िले का मुख्यालय रहा। 1867 में इसे नगरपालिका बना दिया गया। भारत के मध्य प्रदेश राज्य में स्थित खंडवा का विस्तार 6200 वर्ग किलोमीटर है। खंडवा की सीमा बेतूल, होशंगाबाद, बुरहानपुर, खरगोन और देवास से मिली हुई हैं। ओंकारेश्वर यहाँ का बहुत ही लोकप्रिय प्रसिद्ध और पवित्र धार्मिक स्थल है। ओंकारेश्‍वर भारत के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है।

परिवहन

खंडवा का निकटतम एयरपोर्ट इंदौर है, जो खंडवा से लगभग 113 किलोमीटर की दूरी पर है। इंदौर एयरपोर्ट से देश के महत्त्वपूर्ण नगरों के लिए नियमित उड़ानें है। खंडवा रेलवे स्टेशन दिल्ली-मुंबई मार्ग का प्रमुख रेलवे स्टेशन है। यह रेलवे स्टेशन देश के अनेक शहरों से जुड़ा है। खंडवा सड़क मार्ग द्वारा राज्य और पड़ोसी राज्यों के अधिकांश नगरों के लिए यहाँ से नियमित बसों की व्यवस्था है।

व्यापार

प्रमुख सड़क पर बसे और मध्य रेलवे के रेल जंक्शन खंडवा नगर में कपास, इमारती लकड़ी और अनाज का व्यापार किया जाता है। कपास की ओटाई, तिलहन व आरा मिलें और अन्य लघु उद्योग यहाँ के महत्त्वपूर्ण उद्योग हैं। यहाँ पर प्रायोगिक रेशम उत्पादन फ़ार्म, सरकारी पालीटेक्निक और सागर स्थित डॉक्टर हरिसिंह गौर विश्वविद्यालय से संबद्ध अनेक महाविद्यालय हैं।

जनसंख्या

2001 की जनगणना के अनुसार यहाँ की जनसंख्या 1,71,976 है। यह नगर निगम क्षेत्र के अंतर्गत आता है।





Comments खंडवा on 11-10-2021

खंडवा रेल्वे स्टेशन का इतिहास क्या है

ankit on 22-03-2021

nice article keep sharing with us



Heritages sites visit in khandwa mp

Kajal soni on 12-05-2019

James Milne Bhartiya Itihas Khoj Uttarakhand mein baat hai usme kya samajhte hain



आप यहाँ पर खंडवा gk, question answers, general knowledge, खंडवा सामान्य ज्ञान, questions in hindi, notes in hindi, pdf in hindi आदि विषय पर अपने जवाब दे सकते हैं।

Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment