अंतरिक्ष यात्रा पर निबंध

Antariksh Yatra Par Nibandh

Gk Exams at  2018-03-25


Go To Quiz

GkExams on 10-12-2018

वर्तमान युग अंतरिक्ष और कम्प्यूटर का युग है। लेकिन अंतरिक्ष क्या है ? हम किसे अंतरिक्ष कह कर पुकारते हैं ? वस्तुत: यह सारा आकाश और इसका असीम, अबाध विस्तार ही अंतरिक्ष है ।


न इसका कहीं आरंभ है और न अंत । यह एक ऐसा विशाल शून्य है जिसका निरंतर विस्तार हो रहा है । सभी चीजों- आकाश गंगाओं, ग्रहों, नक्षत्रों, धूमकेतुओं, ब्लैक हाल्स आदि का इस में समावेश है । कुछ भी इससे बाहर नहीं है । हमारी पृथ्वी, सूर्य, चन्द्र आदि जो भी हैं और जिनकी हम कल्पना कर सकते हैं, वे सभी इसी में हैं ।


यह एक बड़ा विशाल रहस्यमय और अलौकिक ब्रह्मांड है । मानव प्रारंभ से ही अंतरिक्ष में यात्रा करने का स्वप्न देखता रहा है । आकाश-यात्रा की काल्पनिक कहानियां और कथाएं हमारे साहित्य में प्रारंभ से ही रही हैं । रॉकेट का आविष्कार अंतरिक्ष-यात्रा की ओर पहला महत्वपूर्ण कदम था । इनकी सहायता से कृत्रिम उपग्रह छोड़ने का क्रम प्रारंभ हुआ । रूस ने पहले स्युतनिक आकाश में छोड़े । उसने सर्वप्रथम लायका नामक एक कुतिया को रॉकेट के माध्यम से अंतरिक्ष में भेजा ।


फिर युरी गगारिन सबसे पहले अंतरिक्ष में गये । इसके पश्चात् तो अनेक अंतरिक्ष-यान सफलतापूर्वक छोड़े गये । पहले यान मानवरहित थे । परन्तु फिर मानव सहित अंतरिक्ष यान छोड़े गये । चंद्रमा पर मानव की विजय एक बहुत बड़ी उपलब्धि थी जिसका श्रेय अमेरिका को जाता है । उसके दो एस्ट्रॉनॉट्‌स सबसे पहले चन्द्रमा की धरती पर उतरे ।


चन्द्रमा से आगे अन्य आकाशीय ग्रहों जैसे बृहस्पति शनि शुक्र मंगल आदि पर मानव को उतारने के भागीरथ प्रयत्न चल रहे हैं । इस संबंध में कई मानवरहित अंतरिक्ष यान रूस और अमेरिका ने अब तक आकाश में भेजें हैं । उनके बहुत अच्छे और सफल परिणाम निकले हैं । मानवं की ज्ञान-पिपासा का कोई अंत नहीं । जैसे-जैसे उसका अंतरिक्ष-ज्ञान आगे बढ़ता है, उसकी जिज्ञासा और भी बढ़ती जाती है ।


भारत भी अंतरिक्ष अनुसंधान और अन्वेषण में लगा हुआ है । लेकिन रूस और अमेरिका की तुलना में अभी बहुत पीछे हैं । 3 अप्रैल, 1984 के ऐतिहासिक दिन भारत का पहला व्यक्ति अंतरिक्ष में गया था । वह व्यक्ति राकेश शर्मा थे । यह रूस और भारत के बीच एक लम्बे सहयोग का परिणाम था ।


इसके साथ ही अंतरिक्ष अन्वेषण में एक नये अध्याय का आरंभ हुआ राकेश शर्मा को अंतरिक्ष में जाने का यह सौभाग्य अंतरिक्ष यान 80 सूयोज टी-II के द्वारा


इस अंतरिक्ष यात्रा के दौरान राकेश शर्मा ने कई महत्वपूर्ण प्रयोग किये । उन्होंने अपने यान से पृथ्वी, सूर्य, चन्द्रमा और दूसरे ग्रहों के दुर्लभ चित्र भी लिए । उस समय भारत की प्रधानमंत्री श्रीमती इन्दिरा गांधी ने 5 अप्रैल, 1984 को राकेश शर्मा से थोड़ी बातचीत की, जब वे अंतरिक्ष में थे ।


जब शर्मा से प्रधानमंत्री जी ने पूछा कि भारत अंतरिक्ष से कैसा दिखाई दे रहा है, तो उन्होंने तुरंत उत्तर दिया था, ”सारे जहां से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा ।” 11 अप्रैल, 1984 को यह यान सफलता पूर्वक पृथ्वी पर उतर आया । उस समय राकेश शर्मा भारतीय वायुसेना में स्क्वेड्रन लीडर थे । उनका चुनाव कड़ी प्रतिस्पर्धा के पश्चात् 200 व्यक्तियों में से किया गया था ।


पहले उनको भारत में ही गहरा अंतरिक्ष-प्रशिक्षण दिया गया, फिर रूस में 15 महीनों तक उन्हें इस बारे में ट्रेनिंग दी गई । भारतीय मूल की अमेरिकी नागरिक कल्पना चावला पहली ऐसी महिला हैं जिन्हें अंतरिक्ष में जाने का सुअवसर मिला ।





Comments

आप यहाँ पर अंतरिक्ष gk, यात्रा question answers, निबंध general knowledge, अंतरिक्ष सामान्य ज्ञान, यात्रा questions in hindi, निबंध notes in hindi, pdf in hindi आदि विषय पर अपने जवाब दे सकते हैं।

Labels: , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।

Comment As:

अपना जवाब या सवाल नीचे दिये गए बॉक्स में लिखें।

Register to Comment