सामाजिक अनुसंधान के उद्देश्य

Samajik Anusandhan Ke Uddeshya

Pradeep Chawla on 12-05-2019

नुसंधान का वर्गीकरण, उसकी प्रेरणा और उद्देश्य के आधार पर, किया जा सकता है। उपयोगिता और नीतिनिर्माण से रहित, वैज्ञानिक तटस्थता के साथ, किसी प्राक्कल्पना का समर्थन करना बुनियादी अनुसंधान (Fundamental Research) है परंतु उसका व्यावहारिक उपयोग दो तरह से किया जाता है-

परिचालन अनुसंधान (Operational Research)



प्रशासनिक समस्याओं के संबंध में होनेवाला अनुसंधान है। इसमें गणित और सांख्यकीय विधियों का प्रयोग संभावनासिद्धांत, (Probability Theory) के आधार पर किया जाता है। आँकड़ों का चयन, विश्लेषण, आमूर्तीकरण, भविष्यवाणी, सिद्धांत, निर्माण आदि इस अनुसंधान की प्रक्रिया होता हैं।

क्रियात्मक अनुसंधान (Action Research)

किसी समुदाय की विशेषताओं को ध्यान में रखकर, नियोजित प्रयास, जो सामुदायिक जीवन के अनेक पहलुओं को प्रभावित करते हैं और सामाजिक प्रयोजनों की पूर्ति के लिये किए जाते हैं, इस अनुसंधान के अंतर्गत आते हैं, जैसे आवास, खेती, सफाई, मनोरंजन से संबंधित कार्यक्रम। समुदाय के सदस्यों का सहयोग, आर्थिक स्थिति, संगठित विरोध आदि विशेषताओं का मूल्यांकन (Factor Analysis) करके कार्यक्रम को सफल बनाने का प्रयत्न किया जाता है। यह अनुसंधान भारत में चलनेवाले नियोजन का एक मुख्य उपकरण है।



Comments ऋतु सोनी on 17-06-2021

सामाजिक अनुसंधान के 2 उद्देश्य बताइये

Ujala aamil on 24-01-2021

Saamajik anusandhan ka uddesy

Manisha on 05-01-2021

Samajik anusandhan ke uddeshya or upyogita

Roshani on 11-10-2020

सामाजिक अनुसंशाधन का उद्देश्य

Aaditya. Rajpoot on 13-09-2020

Samajik anushandhan me sangarthak kha mahatv likhiye

Dewashish Kumar Pandey on 10-09-2020

अनुसंधान का उद्देश्य।
के बारे में


Rohit maran on 09-07-2020

Aim of social research is



Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment