सामाजिक सर्वेक्षण का महत्व

Samajik Sarvekshann Ka Mahatva

Pradeep Chawla on 22-10-2018


सर्वेक्षण द्वारा मानचित्र या विन्यास बनाया जाता है । विभिन्न लक्षणों वाली पृथ्वी से परिवर्तनशील तत्वों को समझने एवं क्षेत्र अध्ययन के लिए एक भूगोलवेत्ता के लिए मानचित्र एक अनिवार्य उपकरण हैं ।
जितना स्पष्ट, शुद्ध और विस्तृत जानकारी देने वाला मानचित्र महत्त्वपूर्णता उतनी ही अधिक होगी ।

यह मानचित्र सर्वेक्षण द्वारा बनाया जाता है । सामान्यतः सर्वेक्षण द्वारा सडक, रेलमार्ग, खेतों की सीमा आदि भूमि के लक्षणों को मापते हैं ।
इन कोणीय व रेखिय मापों की सहायता से कागज पर निश्चित मापनी के आधार पर प्लान या मानचित्र बनाते है ।
जब किसी विस्तृत प्रदेश के सभी लक्षणों को समतल कागज पर अंकित करना होता है तो उसके लिए क्षैतिज कोणों के साथ - साथ ऊचाई ज्ञात करने के लिए लम्बवत् कोण भी मापे जाते हैं।
जिस विध द्वारा पूर्व निश्चित क्षैतिज तल सन्दर्भ में लम्बवत् कोण मापे जाते हैं उसे तलेक्षण कहते हैं ।

तलेक्षण द्वारा मानचित्र के सभी बिन्दुओं या वस्तुओं के समोच्च बिन्दु ज्ञात कर उससें समोच्च रेखाएं भी अंकित की जा सकती हैं। इसी प्रकार अनेक प्रकार के सामाजिक एवं भौतिक कारणों का निर्धारण एवं प्रदर्शन सर्वेक्षण द्वारा होता है ।



Comments Pooja Jangdiwar on 28-02-2021

Samajik sarvekshanache konte
mahatva nahi

Pooja Jangdiwar on 28-02-2021

Konti sarvekshanache padhati ahe

Bharti on 04-02-2021

सामाजिक सर्वेक्षण ka महत्व बताइए

Tanu on 29-01-2021

Smajik servekhn ki vistestaye

Sachin manat on 23-01-2020

Samajik or sarvrkshan ka adhar Par shakshik

कोमल यादव on 13-12-2019

सामाजिक सर्वेक्षण का महत्व


Kavita prajapati on 21-11-2019

According to Karl marks the causes of all changes i s

kiran on 01-09-2019

samajik serveshan ka mahatv

Laxmi on 25-07-2019

Samijak.sarvishan.ka.mativ

Kajal kumari on 06-01-2019

Bal apradh in nishkarsh



Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment