माध्यमिक शिक्षा आयोग 1952-53

Madhyamik Shiksha Aayog 1952 - 53

Pradeep Chawla on 12-05-2019

भारत सरकार ने २३ सितम्बर १९५२ को डॉ॰लक्ष्मणस्वामी मुदालियर की अध्यक्षता में माध्यमिक शिक्षा आयोग की स्थापना की उन्ही के नाम पर इसे मुदालियर कमीशन कहा गया।



माध्यमिक शिक्षा आयोग की सिफारिश- 1)4या 5 की प्राइमरी शिक्षा 2)सेकंडरी शिक्षा के दो भाग होना चाहिए माध्यमिक शिक्षा के ढाँचे में सुधार के लिए डॉ. लक्ष्मण स्वामी मुदालियर की अध्यक्षता में सन् 1952 में “माध्यमिक शिक्षा आयोग” की स्थापना की गयी.



२. पाठ्यचर्चा में विविधता लाने, एक मध्यवर्ती स्तर जोड़ने, त्रिस्तरीय स्नातक पाठ्यक्रम शुरू करने इत्यादि की सिफारिश की.



३. वस्तुनिष्ठ (MCQ) परीक्षण-पद्धति को अपनाया जाए.



४. संख्यात्मक अंक देने के बजाय सांकेतिक अंक दिया जाए.



५. उच्च तथा उच्चतर माध्यमिक स्तर की शिक्षा के पाठ्यक्रम में एक core subject रहे जो अनिवार्य रहे जैसे—गणित, सामान्य ज्ञान, कला, संगीत etc.



Comments Ukaram on 21-07-2021

Rajasthan se sadsya kon the

Maan singh rana on 02-12-2020

Secondary education commission (1952-53)recommended which pattern of education ( a )10+2+3 scheme( b ) 12+3 scheme (c)11+2+3 scheme ( d) none of these

Kam on 24-08-2020

Madhyamik shiksha aayog 1952-53 ke anusaar syllabus ki definition kiya hai?

Geeta on 27-01-2020

Madeymik shiks Ha aayog

Manju on 26-11-2019

Prasar seva vibhag ki sthapna kis ayog ne ki ?

Pravin kumar on 20-07-2019

माध्यमिक शिक्षा आयोग में अध्यापक शिक्षा


Shiva on 18-06-2019

Mhtma gandi ka jnm kha huva tha

priti on 12-05-2019

Madhamik sikchh ayog 1952.53 me abhayakchh non h



Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment