राजस्थान की कहावतें

Gk Exams at  2018-03-25

Rajasthan Ki कहावतें



Go To Quiz

GkExams on 25-03-2018

  • अंधा की माखी राम उड़ावै।
    • बेसहारे व्यक्ति का साथ भगवान देता है।
  • अकल बिना ऊंट उभाणा फिरैं ।
    • मूर्ख व्यक्ति साधन होते हुए भी उनका उपयोग नहीँ कर पाते।
  • अक्कल उधारी कोनी मिलै।
    • हिंदी - अकल उधार में प्राप्त नहीं होती।
  • अक्कल कोई कै बाप की कोनी।
    • हिंदी - अकल पर किसी का सर्वाधिकार नहीं है |
  • अगस्त ऊगा, मेह पूगा ।
    • हिंदी -अगस्त माह शुरू होते ही वर्षा पहुँच जाती है |
  • अणदेखी न नै दोख, बीनै गति न मोख।
    • हिन्दी – निर्दोष पर दोष लगाने वाले की कहीँ गति नहीँ होती।
  • अणमांग्या मोती मिलै, मांगी मिलै न भीख।
    • हिंदी -बिना मांगे कीमती चीज मिल जाती है पर मांगने पर भीख भी नहीं मिलती है।
  • अत पितवालो आदमी, सोए निद्रा घोर। अण पढ़िया आतम कही, मेघ आवै अति घोर |
    • हिन्दी - अधिक पित्त प्रकृति का व्यक्ति यदि दिन मेँ भी अधिक सोए तो यह भारी वर्षा का सूचक है।
  • अदपढ़ी विद्या धुवै चिन्त्या धुवे सरीर
    • हिंदी -अधूरे ज्ञान से चिंता बढती है और शरीर कमजोर होता है
  • अनहोणी होणी नहीं, होणी होय सो होय।
    • हिंदी -जो नहीं होना है वह होगा नहीं और होने को टाल नहीं सकते है |
  • अम्बर कै थेगळी कोनी लागै ।
    • हिंदी -आकाश में पैच नहीं लगाया जा सकता |
  • अम्बर राच्यो, मेह माच्यो |
    • हिन्दी – आसमान का लाल होना वर्षा का सूचक है।
  • अम्मर को तारो हाथ सै कोनी टूटै ।
    • हिन्दी– आकाश का तारा हाथ से नहीँ टूटता।
  • अम्मर पीळो में सीळो ।
    • हिन्दी – आसमान का पीला होना वर्षा का सूचक है।
  • अरजन जसा ही फरजन ।
    • हिंदी - सब एक जैसे हैं |
  • अरड़ावतां ऊँट लदै ।
    • हिंदी – दीन पुकार पर भी ध्यान न देना।
  • असो भगवान्यू भोळो कोनी जको भूखो भैसां में जाय ।
    • हिंदी – कोई मूर्ख होगा जो प्रतिफल की इच्छा के बगैर कार्य करे।
  • आँ तिलां मैँ तेल कोनी |
    • हिंदी – क्षमता का अभाव।
  • आँख मीच्यां अंधेरो होय ।
    • हिंदी – ध्यान न देने पर अहसास का न होना।
  • आँखन, कान, मोती, करम, ढोल, बोल अर नार। अ तो फूट्या ना भला, ढाल, ताल, तलवार॥
    • हिंदी – ये सभी चीजेँ न ही टूटे-फूटे तो ही अच्छा है।
  • आंख्याँ देखी परसराम, कदे न झूठी होय ।
    • हिंदी – आँखोँ देखी घटना कभी झूँठी नहीँ होती।
  • आंधा मेँ काणोँ राव |
    • हिंदी – मूर्खोँ मेँ कम गुणी व्यक्ति का भी आदर होता है।
  • आगे थारो पीछे म्हारो |
    • हिंदी – जैसा आप करेँगे वैसा ही हम।
  • आज मरयो दिन दूसरो |
    • हिंदी – जो हुआ सो हुआ।
  • आज हमां और काल थमां |
    • हिंदी – जो आज हम भुगत रहे हैँ, कल तुम भुगतोगे।
  • आडा आया माँ का जाया |
    • हिंदी – कठिनाई मेँ सगे सम्बन्धी (भाई) सहायता करते हैँ।
  • आडू चाल्या हाट, न ताखड़ी न बाट |
    • हिंदी – मूर्ख का कार्य अव्यवस्थित होना।
  • आदै थाणी न्याय होय |
    • हिंदी – बुरे/बेईमान को फल मिलता है।
  • आप कमाडा कामडा, दई न दीजे दोस |
    • हिंदी – व्यक्ति के किये गए कर्मोँ के लिए ईश्वर को दोष नहीँ देना चाहिए।
  • आप गुरुजी कातरा मारै, चेला नै परमोद सिखावै |
    • हिंदी – निठल्ले गुरुजी का शिष्योँ को उपदेश देना।
  • आप मरयां बिना सुरग कठै |
    • हिंदी – काम स्वयं ही करना पड़ता है।
  • आम खाणा क पेड़ गिणना |
    • हिंदी – मतलब से मतलब रखना।
  • आषाढ़ की पूनम, निरमल उगै चंद। कोई सिँध कोई मालवे जायां कट सी फंद
    • हिंदी – आषाढ़ की पूर्णिमा को चाँद के साथ बादल न होने पर अकाल की शंका व्यक्त की जाती है।
  • इब ताणी तो बेटी बाप कै ही है |
    • हिंदी – अभी कुछ नहीँ बिगड़ा।
  • इसे परथावां का इसा ही गीत।
    • हिंदी – जैसा विवाह वैसे ही गीत।
  • ई की मा तो ई नै ही जायो ।
    • हिंदी – इसके बारे मेँ अनुमान नहीँ लगाया जा सकता।
  • उठै का मुरदा उठै बलेगा, अठे का अठे।
    • हिंदी – एक स्थान की वस्तु दूसरे स्थान पर अनुपयोगी है।
  • उत्तर पातर, मैँ मियाँ तू चाकर।
    • हिंदी – उऋण होने मेँ संतोष का द्योतक है।
  • उल्टो पाणी चीलां चढ़ै ।
    • हिंदी – अनहोनी की आशंका को व्यक्त करता है।
  • ऊंट मिठाई इस्तरी, सोनो गहणो शाह। पांच चीज पिरथी सिरै, वाह बीकाणा वाह।
    • हिंदी - काव्य पंक्तियां मरुधरा की ऐसी पांच विशिष्टताओं को उल्लेखित करती है जिनकी सराहना समूची दुनिया में हो रही है।
  • एक हाथ मैँ घोड़ो एक मैँ गधो है।
    • हिंदी – भलाई-बुराई का साथ-साथ रहना।
  • ऐँ बाई नै घर घणा।
    • हिंदी – योग्य व्यक्ति हर जगह आदर पाता है।
  • ओ ही काल को पड़बो, ओ ही बाप को मरबो।
    • हिंदी – कठिनाईयाँ एक साथ आती हैँ।
  • ओछा की प्रीत कटारी को मरबो।
    • हिंदी – ओछा अर्थात् निकृष्ट का साथ तथा कटारी से मरना दोनोँ ही एक समान हैँ।
  • ओसर चूक्यां नै मौसर नहीँ मिलै।
    • हिंदी – चूक होने पर अवसर नहीँ मिलता।


Related Question Answers

वीरता - parak रचनाऐं कहलाती है ?
रीतिकालीन काव्य किन परिस्थितियों की देन है
रीतिकाल लिखित दो रचनाओं के नाम
रीतिकाल की परिस्थितियाँ
Comments

आप यहाँ पर कहावतें gk, question answers, general knowledge, कहावतें सामान्य ज्ञान, questions in hindi, notes in hindi, pdf in hindi आदि विषय पर अपने जवाब दे सकते हैं।

Labels:
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।

Comment As:

अपना जवाब या सवाल नीचे दिये गए बॉक्स में लिखें।

Register to Comment