हरिकृष्ण प्रेमी परिचय

HariKrishna Premi Parichay

Pradeep Chawla on 22-10-2018

हरिकृष्ण 'प्रेमी' का जन्म 1908 ई. को गुना, ग्वालियर, मध्य प्रदेश में हुआ था। इनका परिवार राष्ट्रभक्त था तथा इनमें बचपन से ही राष्ट्रीयता के संस्कार थे। दो वर्ष की अवस्था में माता की मृत्यु हो गयी थी। प्रेम की अतृप्त तृष्णा ने उन्हें स्वयं 'प्रेमी' बना दिया। बंधु-बांधवों के प्रति स्नेहालु, मित्रों के प्रति अनुरक्त, स्वदेशानुराग, मनुष्य मात्र के प्रति सौहाएद-यही उनके अंतर मन का विकास है।

साहित्यिक जीवन की शुरुआत

पं. माखनलाल चतुर्वेदी के साथ 'त्यागभूमि' में पत्रकार के रूप में साहित्यिक जीवन का प्रारम्भ किया। फिर कविताएँ लिखने लगे और उसके बाद नाटक रचना की ओर प्रवृत्ति हुई। लाहौर में पत्रकार और प्रकाशक रहे। सन 1933- 1934 ई. में साहित्यिक कार्य किया। स्वाधीनता आन्दोलन में भी भाग लेते रहे। लाहौर से 'भारती' पत्रिका का प्रकाशन किया। सन 1946 में लाहौर में और उसके बाद बम्बई (वर्तमान मुम्बई) में फिल्म-क्षेत्र में कार्य किया। हरिकृष्ण ने उसके बाद आकाशवाणी जालंधर में हिंदी दिग्दर्शक रहे। बाद में बम्बई में फिल्म-क्षेत्र में कार्य करते रहे।





Comments Janm 1908 on 14-11-2021

Inki mrityu kab hui

Abdul on 15-10-2021

Pehle anda aaya ya murgi

Pokemon on 31-01-2021

Harikrishan premi ki bhasha shaili

Rohit on 04-01-2021

Hare krishan preme ka jevan parechay

नंद on 12-05-2019

हरिकृष्ण के पापा का नाम क्या है?



Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment