उदयशंकर भट्ट के नाटक

Udayshankar Bhatt Ke Natak

GkExams on 12-05-2019

उदयशंकर भट्ट हिंदी के विद्वान सुप्रसिद्ध लेखक व कवि थे। उनका जन्म 1900 में हुआ।



(काव्य)

तक्षशिला, राका, मानसी, विसर्जन, अमृत और विष, इत्यादि, युगदीप, यथार्थ और कल्पना, विजयपथ, अन्तर्दर्शन : तीन चित्र, मुझमें जो शेष है।



नाट्य-साहित्य

विक्रमादित्य, दाहर, सगर विजय, कमला, अंतहीन अंत, मुक्तिपथ, शक विजय, नया समाज, पार्वती, विद्रोहिणी अम्बा, विश्वामित्र, मत्स्यगंधा, राधा, अशोक-वन-बन्दिनी, विक्रमोर्वशीय, अश्वत्थामा, गुरु द्रोण का अन्तर्निरीक्षण, नहुष निपात, कालिदास, संत तुलसीदास, एकला चलो रे, क्रांतिकारी, अभिनव एकांकी नाटक, स्त्री का हृदय, आदिम युग, तीन नाटक, धूमशिखा, पर्दे के पीछे, अंधकार और प्रकाश, समस्या का अंत, आज का आदमी



(उपन्यास)

वह जो मैंने देखा, नए मोड़, सागर, लहरें और मनुष्य, लोक-परलोक, शेष-अशेष.



Comments Aditya Singh on 09-06-2021

Chandra gupt- jayshankar prasad

bina sharma on 12-05-2019

Bhatt Ji ke
natak kala ka name bataye

Raj rajak on 01-02-2019

उदय शन्कर भट्ट के नाटक

Raj rajak on 01-02-2019

चन्द्रगुप्त किसका नाटक है



Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment