पशु पक्षियों से प्रेम करो

Pashu Pakshiyon Se Prem Karo

Pradeep Chawla on 09-10-2018


मानव की मूल पृकृति स्वार्थ साधना है| वहीँ पशु-पक्षी निरीह होते है| स्नेह मिलने पर वे मानव को अपना परम मित्र मानते है और आवश्यकता पड़ने पर उसके सहयोगार्थ प्राण तक न्यौछावर कर देते है| कुत्ते की स्वामिभक्ति प्रसिद्ध है| दुधारू पशु अपने बच्चोंको दूध से वंचित करके हमें दूध देते है| विभिन्न प्रकार के रंग-बिरंगे पक्षी अपनी मधुर वाणी और सौन्दर्य से हमारा मनोरंजन करते है| अपने स्वार्थ में मानव इतना अँधा हो जाता है कि वो स्वछन्द विचरते पशु-पक्षियों को कैद करके सर्कस में करतब दिखा ता है| चिड़ियाघर में उन्हें कैद करके पैसा वसूलता है| ट्रेनिंग के नाम पर उन पशु-पक्षियों को मार-पीटकर करतब सिखाये जाते है| चाहे उन्हें भरपेट खाना न मिले मनुष्य अपनी कमाई बढ़ा लेता है| ऐसे अनेकों उदाहरण मिलते है कि अपने मालिक की प्राणरक्षार्थ उसके पालतू कुत्ते या बिल्ली या अमुक जानवर ने अपने प्राण दे दिए| इतिहास में भी महाराणा प्रताप के घोड़े चेतक, हाथी रामप्रसाद,कर्णसिंह के घोड़े शुभ्रक का प्रसंग आता है| पशु-पक्षी ने सर्वदा स्नेह और लाभ दिया हा वहीं मनुष्य ने उनसे सिर्फ लिया ही है| सवारी के लिए घोड़े, हाथी , गधे, बैल, खच्चर आदि का उपयोग किया है| वजन उठाने के लिए इनका प्रयोग किया है| पूर्व में यही पशु गाड़ी में जोते जाकर आवागमन के साधन थे| गाय को अत्यंत पवित्र मानकर माता की पदवी दी जाती है| वर्तमान में हालात इतने शोचनीय है कि इन्हीं गायों बछड़ो को बूचडखाने में कत्लेआम किया जाता है| पक्षियों का चोरी-छिपे शिकार किया जाता है| राजस्थानमे चिंकारा हिरन को मारने के अभियोग में हाल ही में अभिनेता सलमान खान को बरी कर दिया गया| राष्ट्रीय पशु बाघ और पक्षी मोर तो मानो शिकारियों की पहली पसंद है|


अगर इसी गति से पशु-पक्षियों की अनदेखी होती रही तो वह दिन दूर नहीं जब हम अपनी आगामी पीढ़ी को ये जानवर चित्रों में या विडियो रेकोर्डिंग में दिखायेंगे| मकर संक्रांति पर हजारों पक्षी पतंग के धारदार धागे से कटकर अपनी जान गंवा बैठते है| बकरीद पर क़ुरबानी के नाम पर असंख्य बकरे काटे जाते है| कभी कोई जानवर मानव को नुकसान नहीं पहुचाता| वो मानव पर सिर्फ अपनी प्राण की रक्षा के समय आक्रमण करता है| फिर भी मानव उन्हें प्रेम देने के बजाय प्रताड़ना देता है जो अत्यंत अमानवीय है| अत: सार रूप में कहा जा सकता है कि पशु-पक्षियों से प्रेम करना चाहिए| उनका उपयोग अवश्य करें पर अपनी मानवीय संवेदनाओ को जिन्दा रखते हुए| वे भी ईश्वर की ही रचना है अत: उनके साथ बर्बर व्यवहार न करे| अपनी आय का कुछ हिस्सा उनके दाने-पानी पर खर्च करें और अपना कुछ समय उनके सानिध्य में बिताये| इससे हमारा मानसिक और भावनात्मक संतुलन बरकरार रहेगा|



Comments Aur information chaiye on 22-12-2020

Air information chaiye



आप यहाँ पर पशु gk, पक्षियों question answers, प्रेम general knowledge, करो सामान्य ज्ञान, questions in hindi, notes in hindi, pdf in hindi आदि विषय पर अपने जवाब दे सकते हैं।

Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment