समुद्रगुप्त के चरित्र का मूल्यांकन कीजिए

Samudragupt Ke Charitr Ka Mulyankan Kijiye

Gk Exams at  2018-03-25


Go To Quiz

Pradeep Chawla on 12-05-2019

. प्रस्तावना:



”भारत का नेपोलियन” कहा जाने वाला समुद्रगुप्त असाधारण योद्धा, समर विजेता एवं अजातशत्रु था । वह युद्धक्षेत्र में स्वयं वीरता और साहस के साथ अपने शत्रुओं से मुकाबला करता था । उसने भारत को एकता के सूत्र में बांधने का महान् कार्य किया था । छोटे राज्यों के पारस्परिक वैमनस्य को रोकते हुए एक अखिल भारतीय साम्राज्य की स्थापना उसने की थी ।



उसका शासनकाल राजनीतिक, सांस्कृतिक, सामाजिक, आर्थिक, सामरिक दृष्टि से अत्यन्त सुदृढ़ था । उसका अद्वितीय व्यक्तित्व उदारता, प्रतिभा तथा असाधारण गुणों का पर्याय था । वह एक विद्वान्, कवि, संगीतज्ञ, कला-प्रेमी, साहित्यकार, सेनानायक, सफल संगठनकर्ता, पराक्रमी, प्रजापालक, दान-परायण, महान् दिग्विजयी शासक था ।

2. जीवन वृत्त एवं उपलब्धियां:



समुद्रगुप्त चन्द्रगुप्त प्रथम का पुत्र और उत्तराधिकारी था । उसकी माता लिच्छवी राजकुमारी कुमार देवी थी । वह अपने माता-पिता का इकलौता पुत्र न था । उसके अन्य भाई-बहिन भी थे । वह बाल्यकाल से ही बड़ा ही विलक्षण, प्रतिभाशाली था, जिसके कारण अपने सभी भाइयों में वह योग्य, वीर एवं साहसी था । इसके कारण उसके पिता ने उसे अपना उत्तराधिकारी बनाया ।



समुद्रगुप्त ने अपने साम्राज्य का विस्तार 325-380 ई० में किया । प्रयाग प्रशस्ति के आधार पर समुद्रगुप्त ने अपने साम्राज्य का अपार विस्तार किया । वह क्रान्ति और विजय में आनन्द पाता था । इलाहाबाद के अभिलेखों से ज्ञात होता है कि उसने अपनी दिग्विजय यात्रा का प्रारम्भ उत्तर भारत के राजाओं पर विजय प्राप्त करके किया ।



उसने नेपाल, आसाम, बंगाल के सीमावर्ती प्रदेश, पंजाब को अपने आधिपत्य में ले लिया था । आटविक, अर्थात् जंगली राज्यों में उसने उत्तर में गाजीपुर से लेकर जबलपुर और विध्यांचल क्षेत्र को अपने वश में किया । दक्षिण भारत के 12 शासकों को हराकर छोड़ दिया । हरिषेन ने अपनी प्रयाग प्रशस्ति में पल्लवों पर भी उसके विजय अभियान का उल्लेख किया है ।



विदेशी राज्यों में अफगानिस्तान पर राज्य करने वाले, शकों, कुषाणों को भी अपनी प्रभुसत्ता स्वीकार करवायी । चीन स्त्रोत के अनुसार-उसने लंका के राजा मेधवर्मन के द्वारा भेजे गये दूत से प्राप्त सन्देश पर गया में विशाल बौद्ध मन्दिर और विहार बनाया ।



इलाहाबाद प्रशस्ति लेख में उसे अजातशत्रु कहा गया है । अपनी बहादुरी और युद्ध-कौशल के कारण वह भारत का नेपोलियन कहा जाता है । उसका साम्राज्य पूर्व में ब्रह्मपुत्र, दक्षिण में नर्मदा तथा उत्तर में कश्मीर तक फैला हुआ था । उसका शासन 328 से 375 तक का माना जाता है ।



अपने विशाल साम्राज्य का वह स्वयं स्वामी था । साम्राज्य को अनेक प्रान्तों, जनपदों और जिलों में विभाजित किया था । अभिलेखों के अनुसार-जो सरकारी पदाधिकारी होते थे, उसमें खाद्य-पाकिक, कुमारामात्य, महादण्डनायक, सन्धिविग्रहिक तथा सम्राट का प्रधान परामर्शदाता होता था । साम्राज्य के दूरस्थ भागों का शासन सामंत, राजा के प्रतिनिधि के रूप में किया करते थे ।



ADVERTISEMENTS:



समुद्रगुप्त ने मुद्रा सम्बन्धी अनेक सुधार कार्य किये । उसने शुद्ध स्वर्ण की मुद्राओं तथा उच्चकोटि की ताम्र मुद्राओं का प्रचलन करवाया । समुद्रगुप्त ने चांदी की मुद्राओं का प्रचलन नहीं करवाया था । दान में भी वह शुद्ध सोने की मुद्रा प्रदान करता था । यह उसके शासन के वैभव का प्रतीक है ।



मुद्राओं द्वारा उसके जीवन चरित्र, व्यक्तित्व, अभिरुचि, संगीत और कला-प्रेम, प्रशासनिक व राजनैतिक उपलब्दियों का पता चलता है । उसने गरूड़, धनुर्धर, परशु, अश्वमेध, व्याघ्रहंता और वीणा प्रकार की मुद्रा प्रचलित करवायी थी । इन मुद्राओं में समुद्रगुप्त को भी उल्लेखित प्रतीकों के साथ दिखाया था ।



समुद्रगुप्त ने छोटे-छोटे राज्यों को मिलाकर एक गणतान्त्रिक विशाल साम्राज्य का रूप प्रदान किया था, जिससे भारत की राजनीतिक एकता सुदृढ़ हुई । अश्वमेध यज्ञ के द्वारा उसने भूमि-बन्धन कराकर अपने दिग्विजयी होने तथा चक्रवर्ती सम्राट होने का प्रमाण प्रस्तुत किया था । वह वीणा का श्रेष्ठ वादक था । उसने स्वयं कुछ काव्य-ग्रन्थों की रचना भी की थी, जो दुर्भाग्यवश लुप्त हो गयी ।



वह उच्चकोटि के विद्वानों का प्रशंसक व संरक्षक था । समुद्रगुप्त ललितकला में भी रुचि रखता था । अनेक स्वर्ण मुद्राओं पर वीणा वादन करती हुई ऊंचे मंच पर बैठी हुई समुद्रगुप्त की राजमूर्ति अंकित है । वह उदार, धार्मिक दृष्टिकोण से सम्पन्न शासक था । उसने ब्राहाण एवं शूद्र,वैष्णव एवं शैव आदि में किसी के साथ भेदभाव नहीं किया।



3. उपसंहार:



अपने 45 वर्षों के उत्कृष्ट शासनकाल के पश्चात् समुद्रगुप्त की मृत्यु 380 में हुई थी । उसके सम्पूर्ण चरित्र एवं शासनकाल का विश्लेषण करने पर यह ज्ञात होता है कि वह महान् विजेता, दिग्विजयी, नीति-निपुण शासक, राजनीतिज्ञ, साहित्य व कला प्रेमी, उदार व सहिष्णु दृष्टिकोण रखने वाला शासक था ।



उसके सम्बन्ध अपने देश से ही नहीं, अपितु विदेशी शासकों के साथ मैत्रीपूर्ण एवं मधुर थे । सम्पूर्ण भारत को तत्कालीन समय में राजनीतिक एकता, सांस्कृतिक एकता में बांधने वाला वह महान् चक्रवर्ती सम्राट था ।



Comments समुद्र गुप्त के चरित्र का मूल्यांकन on 12-05-2019

समुद्र गुप्त के चरित्र का मूल्यांकन कीजिये



आप यहाँ पर समुद्रगुप्त gk, चरित्र question answers, मूल्यांकन general knowledge, समुद्रगुप्त सामान्य ज्ञान, चरित्र questions in hindi, मूल्यांकन notes in hindi, pdf in hindi आदि विषय पर अपने जवाब दे सकते हैं।

Total views 180
Labels: , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।

Comment As:

अपना जवाब या सवाल नीचे दिये गए बॉक्स में लिखें।

Register to Comment