मुर्गी में होने वाले रोग

Murgi Me Hone Wale Rog

Gk Exams at  2020-10-15

Pradeep Chawla on 11-10-2018


मुर्गी रोग


मुर्गियों में जीवाणु द्वारा उत्पन्न रोगों से 25 - 100 प्रतिशत तक मृत्यु दर होने की संभावना रहती है। आर्थिक दृष्टिकोण से मुर्गियों के रोगी हो जाने पर इलाज लाभकारी नहीं होता। कुछ बीमारियों से बचाव के लिए पहले से प्रयास करना आवश्यक होता है, अतः मुर्गी पालकों को अपनी मुर्गियों में होने वाले रोगों के लक्षण, रोकथाम टीकाकरण तथा इलाज के संबंध में जानकारी होनी चाहिए। घरेलु मुर्गीपालन में आमतौर पर मुर्गियों को निम्नांकित दो बीमारियों से पहचानना चाहिए -


* रानीखेत ( झुमरी ) रोग - यह मुर्गियों की सबसे भयानक व जल्दी फैलने वाली अत्यंत संक्रामक बिमारी है।इसमें शत - प्रतिशत चूज़े मर जाते है। इस रोग के प्रमुख लक्षण हैं - छींकना, जम्हाई लेना, सांस लेना, सांस लेने में कठिनाई ( सांस लेने पर सीटी जैसी आवाज़ आती है ), खांसी, बुखार, दस्त ( हरा / पीला ) आदि। बाद में टांगो एवं पंखों में लकावा हो जाता है।
* चेचक माता रोग ( फाउल पाक्स ) - यह एक छूत का रोग है तथा बड़ी मुर्गियों एवम चूज़ों दोनों में होता है। रोग के कारण मृत्यु तो कम होती है, पर अंडा उत्पादन काफी काम हो जाता है। इसमें त्वचा, आँख, नाक व मुँह में चेचक के दाने निकल आते हैं, शरीर के पंखहीन भागों, जैसे - कलगी, गर्दन, टांग, आदि पर मोटी पपड़ी बन जाती है, आँखों पर सूजन आ जाती है। मुर्गियां बार - बार छींकती है व तेज़ बुखार चढ़ता है। कई बार अन्य मुर्गी को चोंच मार - मार कर घायल कर देती है।



Comments Raj on 07-10-2018

Murgiyon me konse rog hote hai

Aakash maretha on 02-10-2018

Murgiyo me Ranikhet naamak Rog hota hai.

Vipin patel on 18-09-2018

Layer murgi m skin kha hoti h

VIP in patel on 01-09-2018

murgi KO skin kha hoti h



Labels: , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment