भारत के प्रसिद्ध संग्रहालय

Bharat Ke Prasidh Sangrahalay

Gk Exams at  2020-10-15

GkExams on 14-02-2019

1. दिल्ली का राष्ट्रीय संग्रहालय

भारत की राजधानी नई दिल्ली में 1949 में स्थापित राष्ट्रीय संग्रहालय, प्रदर्शन और प्रदर्शनी का एक शानदार संग्रह है। यह मोहनजोदड़ो और हड़प्पा की सभ्यताओं के दिनों से लेकर भारत के आधुनिक समय तक के इतिहास को दिखाता है। यहाँ प्रदर्शन के लिए वैदिक सभ्यता, गौतम बुद्ध के व्यक्तिगत प्रभाव, भारतीय राजाओं द्वारा उपयोग किए गए अस्त्र-शस्त्र और हथियार, (एक हाथी कवच सहित), कलाकृति, लकड़ियों की नक्काशी, वस्त्र, संगीत वाद्ययंत्र और पत्थर की मूर्तियों सहित कई अन्य व्यक्तिगत अवशेष हैं। यह संग्रहालय एक शानदार अनुभव देने का वादा करता है। देश भर के अगंतुक इस संग्रहालय को देखने के लिए आते हैं।


2. कोलकाता का भारतीय संग्रहालय


भारतीय संग्रहालय एशियाई सोसाइटी द्वारा 1814 में स्थापित किया गया था। उस समय, कलकत्ता ब्रिटिश भारत की राजधानी थी और एक शताब्दी तक यहाँ राजनीतिक और सांस्कृतिक विकास की स्थिति बनी रही। भारतीय संग्रहालय दक्षिण-पूर्व एशिया का सबसे पुराना और देश में सबसे बड़ा संग्रहालय है। इसे छः खंडों में विभाजित किया गया है जिसमें कुल पैंतीस गैलरियाँ हैं। यहाँ की कलाकृतियों और प्रदर्शनिंयों को पुरातत्व, कला, मनुष्य जाति विज्ञान, वनस्पति विज्ञान, भूविज्ञान और जन्तु विज्ञान में वर्गीकृत किया गया है। यह पुरातत्व संग्रहालय के सबसे आकर्षक वर्गों में से एक है जिसमें मिस्र की एक ममी सहित और भी शानदार प्रदर्शनियाँ शामिल हैं। यहाँ की सिक्कों की गैलरी, संगीत वाद्ययंत्र गैलरी, मुगल चित्रकारी गैलरी, मुखौटा गैलरी, और जीवाश्म- मनुष्य विज्ञान गैलरी आगंतुकों द्वारा अधिक पंसद की जाने वाली गैलरियाँ हैं।


3. हैदराबाद का सालार जंग संग्रहालय


हैदराबाद का सालार जंग संग्रहालय संभवत: देश में सबसे प्रसिद्ध संग्रहालयों में से एक है। यह संग्रहालय 1951 में नवाब मीर यूसुफ खान के महल में स्थापित किया गया था। जिसे अब लोकप्रिय सालार जंग तृतीय कहा जाता है। यह संग्रहालय 1.1 मिलियन कलाकृतियों और कला खंडों का संग्रह रखता है। यहाँ की सभी कलाकृतियाँ और कला खंड व्यक्तिगत रूप से सालार जंग तृतीय द्वारा खुद इकट्ठा किये गये हैं। यहाँ के सर्वश्रेष्ठ संग्रह में से एक घड़ी कक्ष है। ऐतिहासिक समय वाली दुनिया भर की घड़ियों और समय देख-रेख उपकरणों की एक गैलरी है। कुरान संग्रह यहाँ भी प्रभावशाली है। मुगल काल की प्राचीन वस्तुएं जैसे औरंगजेब के खंजर, टीपू सुल्तान की अलमारी, मुगल काल की पत्थर की मूर्तियाँ, कलाकृति, और राजा रवि वर्मा की चित्रकारी को जरुर देखें, जो सालार जंग के अद्भुत संग्रह का एक हिस्सा हैं।


4. मुंबई का प्रिंस ऑफ वेल्स संग्रहालय


छत्रपति शिवाजी वास्तु संग्रहालय के रूप में इसका नाम बदलने के बावजूद भी इस संग्रहालय को अभी भी प्रिंस ऑफ वेल्स संग्रहालय कहा जाता है। इस संग्रहालय की स्थापना 1922 में राजकुमार की भारत यात्रा के स्मरणोत्सव मनाने लिए की गई थी। यहाँ के संग्रहालय में सिंधु घाटी सभ्यता से कुछ प्राचीन अवशेष, मध्य युग के मिट्टी के बर्तनों और चीनी मिट्टी की कुछ शानदार मूर्तियों, कलाकृति और लघु चित्रकारी, और भारतीय युद्ध के प्राचीन हथियारों का एक अच्छा संग्रह है। संग्रहालय में स्थित गुंबदाकार संरचना हिंदू, इस्लामी, और ब्रिटिश वास्तुकला के एक सुंदर मिश्रण को दर्शाती है। यह संरचना जॉर्ज वॉट द्वारा डिजाइन की गयी थी।


5. चेन्नई का सरकारी संग्रहालय


एग्मोर नामक स्थान के कारण चेन्नई के सरकारी संग्रहालय को अक्सर एग्मोर संग्रहालय कहा जाता है। यह संग्रहालय एक सुंदर औपनिवेशिक इमारत पैन्थियोन कॉम्प्लेक्स में स्थित है। यह संग्रहालय दक्षिण भारत के इतिहास के सबसे प्रभावशाली प्रदर्शनों को प्रदर्शित करता है। कांस्य मूर्तिकला संग्रह गैलरी में 7 वीं शताब्दी के पल्लवों के समय की कांस्य की मूर्तियाँ दिखाई गई हैं और 9 वीं और 11 वीं शताब्दियों के बीच चोल साम्राज्य की भी कुछ बेहतरीन मूर्तियाँ गैलरी में स्थापित हैं। इस संग्रहालय में प्राचीन दक्षिण भारत के कुछ उत्कृष्ट बौद्ध अवशेष और सिक्के भी शामिल हैं।


6. दिल्ली का राष्ट्रीय रेल संग्रहालय


राष्ट्रीय रेल संग्रहालय, नई दिल्ली के चाणक्यपुरी में स्थित है। यह बच्चों और रेल उत्साही लोगों का सदैव एक पसंदीदा स्थान है। यह संग्रहालय लगभग 11 एकड़ के क्षेत्र में फैला हुआ है। यह संग्रहालय भारत की रेलवे क्रमागत उन्नति के विकास को दर्शाता है। इसमें भाप इंजनों और कोयले से चलने वाली गाड़ियों के संग्रह के अलावा, विशेष रूप से पूर्व वाइसरीगल डाइनिंग कार, और मैसूर के महाराजा रोलिंग सेलोन जैसी सुविधाजनक गाडियाँ भी शामिल हैं। फेयरी लोकोमोटिव क्वीन भी यहाँ के प्रदर्शन का एक अहम हिस्सा है। इस संग्रहालय में ट्रेनों के अदंर की पुरानी तस्वीरों की जानकारी का एक बड़ा संग्रह भी शामिल है।


7. केलिको म्यूज़ियम ऑफ टेक्सटाइल्स, अहमदाबाद


भारतीय व्यापार और विरासत में कपड़ों और वस्त्रों ने एक महत्वपूर्ण हिस्सा बना लिया है। अहमदाबाद में भारतीय करघाओं की शोभा का और वस्त्रों के प्रदर्शन का संग्रह केलिको संग्रहालय में है। यह संग्रहालय न केवल भारत में मुगल युग के दौरान बने प्राचीन कपड़ो को प्रदर्शित करता है बल्कि यह देश के विभिन्न हिस्सों के कपड़ा उद्योग की प्रगति का भी वर्णन करता है। यहाँ के सुंदर कश्मीरी पश्मीना, कालीनों और इकत हथकरघा को जरुर देखें। इस संग्रहालय में 10 साल से कम आयु वाले बच्चों को आने की अनुमति नहीं है।


8. दिल्ली का शंकर अंतर्राष्ट्रीय गुड़िया संग्रहालय


भारत गुड़ियों का देश है। इनका उपयोग मूर्तियों, कहानियों, खिलौनों और अनेक सांस्कृतिक उद्देश्यों के लिए किया जाता है। दिल्ली में शंकर के अंतर्राष्ट्रीय गुड़िया संग्रहालय में देश की अन्य जगहों से अधिक गुड़िया का संग्रह है। इस संग्रहालय की गैलरियों में भारत के विभिन्न हिस्सों की गुड़िया का एक प्रभावशाली प्रदर्शन है। इसमें 85 अन्य देशों की गुड़िया का संग्रह भी शामिल है। जापानी गीशा गुड़िया से लेकर स्पेनिश फ्लैमेन्को नर्तक गुड़िया तक और अमेरिकी किसान गुड़िया से लेकर थाई महिला ऑर्केस्ट्रा गुड़िया का संग्रहालय हमें दुनिया की सैर कराता है। यहाँ की कार्यशाला में क्षेत्रीय पोशाक वाली कई भारतीय गुड़िया भी बनाई जाती हैं।


9. तिरुवनंतपुरम का नेपियर संग्रहालय


मद्रास के पूर्व गवर्नर जनरल सर जॉन नेपियर के नाम पर इस संग्रहालय का नाम नेपियर संग्रहालय रखा गया। यह संग्रहालय तिरुवनंतपुरम के दाहिने केंद्र में एक सुंदर इंडो-सरैसेनिक संरचना स्थित है। यह संग्रहालय दक्षिण भारत में प्रदर्शित होने वाली एक शानदार विविधता का घर है। हालांकि यहाँ की विशेष अवधारणा, यहाँ की लकड़ी, कांस्य, केरल की नक्काशी और कलाकृतियों पर है। इस संग्रहालय में केरल और तमिलनाडु के हिंदू देवताओं का एक विशेष संग्रह है। रामायण और महाभारत के प्रदर्शन को जरूर देखें जो कि जापानी चमड़े से तैयार किए गए हैं।


10. बंगलौर का एचएएल-हेरिटेज सेंटर और एयरोस्पेस संग्रहालय


देश भर में सबसे दिलचस्प संग्रहालयों में से एक एचएएल हेरिटेज सेंटर और एयरोस्पेस संग्रहालय है। इस संग्रहालय को 2001 में हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) द्वारा स्थापित किया गया था ताकि पूरे वर्ष के विमानन इतिहास और विकास को सुगमता से प्रदर्शित किया जा सके। इस संग्रहालय में हवाई इंजन के मॉडल का शानदार प्रदर्शन होता है। प्रदर्शन के लिए डोरनेर, जगुआर और किरण विमान के कुछ वास्तविक इंजन भी हैं। इस संग्रहालय में विमान सिमुलेटर और विमानन उत्साही लोगों के लिए दिखावटी वायु यातायात नियंत्रण टॉवर भी स्थापित हैं। जो अपने हाथों द्वारा उड़ान और विमान नियंत्रण की कोशिश करतें हैं।





Comments Sumit Kumar on 12-05-2019

Bharat mein prasidh kitne Sangrahalaya hai



आप यहाँ पर संग्रहालय gk, question answers, general knowledge, संग्रहालय सामान्य ज्ञान, questions in hindi, notes in hindi, pdf in hindi आदि विषय पर अपने जवाब दे सकते हैं।

Labels: , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment