वैशाली आकर्षक स्थल

Vaishali Akarshak Sthal

Gk Exams at  2018-03-25

GkExams on 22-11-2018

वैशाली तथा आसपास
मुख्य लेख : वैशाली
अशोक स्तंभ:- वैशाली में हुए महात्मा बुद्ध के अंतिम
उपदेश की याद में सम्राट अशोक ने नगर के समीप कोल्हुआ में
लाल बलुआ पत्थर के एकाश्म सिंह-स्तंभ की स्थापना की
थी। लगभग 18.3 मीटर ऊँचे इस स्तंभ के ऊपर घंटी के आकार
की बनावट है जो इसको आकर्षक बनाता है।
बौद्ध स्तूप:- दूसरे बौद्ध परिषद की याद में यहाँ पर दो
बौद्ध स्तूपों का निर्माण किया गया था। पहले तथा
दूसरे स्तूप में भगवान बुद्ध की अस्थियाँ मिली है। यह
स्थान बौद्ध अनुयायियों के लिए काफी महत्वपूर्ण है।
अभिषेक पुष्करणी:- वैशाली में नव निर्वाचित शासक
को इस सरोवर में स्नान के पश्चात अपने पद, गोपनीयता
और गणराज्य के प्रति निष्ठा की सपथ दिलाई जाती
थी। इसी के नजदीक लिच्छवी स्तूप तथा विश्व शांति
स्तूप स्थित है।
राजा विशाल का गढ़:-लगभग एक किलोमीटर परिधि
के चारों तरफ दो मीटर ऊंची दीवाल है जिसके चारों तरफ
43 मीटर चौड़ी खाई थी। समझा जाता है कि राजा
विशाल का राजमहल या लिच्छ्वी काल का संसद है।
कुण्डलपुर:- यह जगह जैन धर्म के 24वें तीर्थंकर भगवान
महावीर का जन्मस्थान होने के कारण काफी पवित्र
माना जाता है। वैशाली से इसकी दूरी 4 किलोमीटर के
आसपास है। यहीं बसाढ गाँव में प्राकृत जैन शास्त्र एवं
अहिंसा संस्थान भी स्थित है।
वैशाली महोत्सव:- प्रतिवर्ष वैशाली महोत्सव का
आयोजन जैन धर्म के 24 वें तीर्थंकर भगवान महावीर के जन्म
दिवस पर बैसाख पूर्णिमा को किया जाता है। अप्रैल के
मध्य में आयोजित होनेवाले इस राजकीय उत्सव में देशभर के
संगीत और कलाप्रेमी हिस्सा लेते हैं।
विश्व शांति स्तूप:- जापान के निप्पोणजी समुदाय
द्वारा बनवाया गया विश्व शांतिस्तूप
चौमुखी महादेव मंदिर
बावन पोखर मंदिर
वैशाली संग्रहालय
हाजीपुर एवं आसपास
मुख्य लेख : हाजीपुर
कोनहारा घाट: भागवत पुराण में वर्णित गज-ग्राह की
लडाई में स्वयं भगवान विष्णु ने यहाँ आकर अपने भक्त गजराज
को जीवनदान और शापग्रस्त ग्राह को मुक्ति दी थी।
गंगा और गंडक के पवित्र संगम पर बसे कोनहारा घाट की
महिमा हिंदू धर्म में अन्यतम है।
नेपाली छावनी मंदिर: 18 वीं सदी में पैगोडा शैली में
निर्मित अद्वितीय शिवमंदिर नेपाली वास्तुकला का
अद्भुत उदाहरण है।
रामचौरा मंदिर: अयोध्या से जनकपुर जाने के क्रम में
भगवान श्रीराम ने यहाँ विश्राम किया था। उनके चरण
चिह्ण प्रतीक रुप में यहाँ मौजूद है।
जामिया मस्जिद: तेरहवीं सदी के मध्य में यहाँ के
शासक हाजी इलियास द्वारा बनवाए गए किले परिसर में
अकबर काल में बनवाया गया मस्जिद।
मामू-भाँजा की मजारः मुगलकाल के सूफी संतों की
मजा़र एवं करबला का मैदान
गाँधी आश्रम: स्वतंत्रता आन्दोलन के दौरान
राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी के तीन बार जिले में पधारने
पर आयोजित सभा स्थल तथा खादी ग्रामोद्योग
आयोग परिसर
महात्मा गाँधी सेतु:- प्रबलित कंक्रीट से गंगा नदी पर
बना महात्मा गाँधी सेतु दुनिया में एक ही नदी पर बना
सबसे बड़ा पुल है। 46 पाये वाले इस कंक्रीट पुल से गंगा को
पार करने पर वैशाली में आम और केले की खेती तथा पटना
महानगर के विभिन्न घाटों तथा लैंडमार्क का विहंगम
दृश्य दिखाई देता है।
सोनपुर मेला
मुख्य लेख : सोनपुर मेला
गंगा-गंडक के संगम पर बसे हरिहरक्षेत्र में कोनहारा घाट के
सामने सोनपुर में विश्वप्रसिद्ध मेला लगता है। यहाँ बाबा
हरिहरनाथ (शिव मंदिर) तथा काली मंदिर के अलावे अन्य
मंदिर भी हैं। प्रतिवर्ष कार्तिक पूर्णिमा को पवित्र
गंडक-स्नान से शुरु होनेवाले मेले का आयोजन पक्ष भर चलता
है। सोनपुर मेला की प्रसिद्धि एशिया के सबसे बड़े पशु मेले
के रुप में है। हाथी-घोड़े से लेकर रंग-बिरंगे पक्षी तक मेले में
खरीदे-बेचे जाते हैं। मेला के दिनों में सोनपुर एक
सामाजिक, आर्थिक एवं सांस्कृतिक केंद्र बन जाता है।
अन्य महत्वपूर्ण स्थल
हज़रत जन्दाहा : हाजीपुर से 32 किलोमीटर पूरब एन एच
103 के किनारे स्थित जन्दाहा शहर में सूफी संत दिवान
अली शाह की मजार है। यहाँ होकर बहने वाली बाया
नदी तथा शहर के नाम के पीछे सूफी संत द्वारा किए गए
चमत्कार की कहानी जुड़ी है। मध्यकाल में हाजीपुर के एक
प्रसिद्ध सूफी मकदूम शाह अब्दुल फतेह जन्दाहा के सूफी
दिवान अली शाह के चाचा थे।
चेचर (श्वेतपुर) : हाजीपुर से लगभग 20 किलोमीटर पूरब
स्थित गंगा नदी के किनारे स्थित चेचर गाँव पुरातात्विक
धरोहरों से संपन्न गाँव है। इसका पुराना नाम श्वेतपुर है।
यहाँ गुप्त एवं पालवंश के शासनकाल की मूर्तियाँ एवं
सिक्के मिले हैं।
भुंइयां स्थान : हाजीपुर से 10 किलोमीटर दूर स्थित एक
गाँव में बाबा भुइंया स्थान है जहाँ पशुपालकों द्वारा
देवता को दूध अर्पित किया जाता है। वैशाली तथा
आसपास के जिले में कृषि एवं पशुपालन से जुड़े लोगों के लिए
यह स्थान अति पवित्र है।



Comments

आप यहाँ पर वैशाली gk, question answers, general knowledge, वैशाली सामान्य ज्ञान, questions in hindi, notes in hindi, pdf in hindi आदि विषय पर अपने जवाब दे सकते हैं।

Total views 205
Labels: , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।
आपका कमेंट बहुत ही छोटा है



Register to Comment