ऐतिहासिक स्थल की सैर

Aitihasik Sthal Ki Sair

Pradeep Chawla on 12-05-2019

भारत में अनेक ऐतिहासिक स्थल हैं । गर्मी की छुट्‌टी में इस बार हमने किसी ऐतिहासिक स्थल की सैर का कार्यक्रम बनाया । हमारे राज्य में साँची ऐसा ही एक प्रसिद्ध स्थल है । साँची मध्य रेलवे के बीना व भोपाल जंक्शन के बीच का रेलवे स्टेशन है । रेल द्वारा भोपाल होकर मैं अपने माता-पिता के साथ साँची पहुँचा ।



अध्यात्म, कला और इतिहास में रुचि रखने वाले लोगों को साँची हमेशा आमंत्रित करती रही है । महात्मा बुद्ध के अनुयायी सम्राट अशोक ने जिन शांति स्थलों का निर्माण और विकास किया था, साँची उनमें से विश्व क्षितिज पर सबसे ऊपर है । ऊपर पहाड़ी पर बने स्तुप तत्कालीन समय की कलात्मकता, उन्नत शिल्प और शांति के जीवंत उदाहरण हैं ।



सुबह करीब 9 बजे जब हम साँची पहुँचे तो स्तूपों की चढ़ाई के साथ ही अनुभव हुआ कि शांति अगर कहीं बसती है तो इस छोटी सी बस्ती में । गुलाबी धूप, खुशनुमा मौसम और आस-पास की हरियाली देख कर लगा कि महात्मा बुद्ध के संदेशों को प्रसारित करने कै लिए सम्राट अशोक का इस जगह का चुनाव बहुत उपयुक्त था ।



स्तूपों पर चढाई से पूर्व हमें नीचे टिकट लेना पड़ा । संग्रहालय जाने के लिए अतिरिक्त रकम देनी पड़ी । साँची में हर स्थल में इसका पूरा ऐतिहासिक विवरण बोर्ड पर अंकित है इसलिए गाइड की आवश्यकता नहीं हुई । स्तूपों पर चढ़ाई से पूर्व हमने पुरातत्व विभाग का संग्रहालय देखा । फिर सीढ़ियों की चढ़ाई के बाद हम ऊपर पहुँचे । पत्थर के भव्य द्वार पर तीनमुखी शेरों वाला चिह्‌न जिसे ‘ लायन केपिटल ‘ कहते हैं, यहाँ की कथा कहता प्रतीत हुआ ।



पत्थरों का कलात्मक निर्माण, वास्तुकला और शिल्पकला की दृष्टि से साँची का स्तूप बहुत अनुपम है । इसके चारों तरफ घूमकर हमने देखा तो पाया कि इसके भीतर एक आधा स्तुप और मौजूद है । इस स्तुप को नक्काशी द्वारा चारों ओर से सजाया गया



ADVERTISEMENTS:



है । स्तुप के शिलालेख पर उन सभी लोगों के नाम अंकित हैं जिन्होंने वेदिकाओं और भूतल निर्माण में सहयोग दिया था । स्तूप की एक दीवार में बनी खंभों वाली छतरी के नीचे महात्मा बुद्ध की ध्यानस्थ चार मूर्तियाँ बनी हुई हैं । पहाड़ी की तलहटी में बना दूसरा स्तुप मूलत : एक चबूतरे पर बना है । शिलालेख से ज्ञात हुआ कि उस वृत्ताकार स्कूप का निर्माण ईसा पूर्व दूसरी शताब्दी के अंतिम चरण में हुआ था । इसमें अंकित फूल, पत्ती, पशु, पक्षी, नाग, मानव और किन्नरों के चित्र भी बोलते प्रतीत हुए । इन भित्तिचित्रों का बुद्ध के दर्शन और जातक कथाओं से घनिष्ठ संबंध है । हमने तीसरे स्तुप की परिक्रमा भी की और पाया कि यह दूसरे स्तुप के समान ही है ।



ADVERTISEMENTS:



साँची का स्तूप देखने के बाद हम चाय-नाश्ता करने लगे । फिर हम साँची से 10 किमी दूर भोपाल रोड पर स्थित सतधारा गए । यहाँ समकालीन बौद्ध स्तुप हैं । सतधारा के स्कूप साँची के स्तृपों से कहीं ज्यादा आकर्षक हैं ।



उसके बाद हम विजय मंदिर देखने गए । उस ऐतिहासिक मंदिर में पहुंचने में हमें कई तंग गलियों से गुजरना पड़ा । इस अद्‌भुत और भव्य मंदिर को प्राचीन वास्तुकला का चमत्कार कहा जा सकता है । इस मंदिर को भारत का दूसरा सूर्य मंदिर भी कहते हैं । विजय मंदिर देखकर बेतवा नदी के पुल से गुजरते हुए हम उदयगिरि पहुँचे । इस ऐतिहासिक पहाड़ी को देखकर लगा जैसे पत्थरों को काट कर ही प्रतिमाएँ स्थापित की गई हैं । इस भव्य पहाड़ी के निकट ही गुलाब का एक आकर्षक उद्‌यान भी है ।



उदयगिरि की गुफाओं के छोटे से होटल में नाश्ता कर हम वहाँ से 2 किमी दूर ऐतिहासिक हेलियोडोरस का स्तंभ देखने पहुँचे । घुमक्कड़ चीनी यात्री ह्वेनसांग ने यहीं भारतीय संस्कृति से प्रभावित होकर हिन्दू धर्म ग्रहण किया था । यहाँ से लगभग 30 किमी दूर हम वट का एक वृक्ष देखने गए । इस वृक्ष को देख हम अचंभित रह गए । इस प्राचीन वृक्ष की सौ से भी अधिक शाखाएँ लगभग आधा किमी क्षेत्रफल में फैली हुई हैं । कहा जाता है कि यह एशिया महाद्दीप का सबसे बड़ा वट वृक्ष है । इसे निहारने के बाद हमने वापस साँची का रास्ता पकड़ा । हमने होटल में रात्रि विश्राम किया । अगले दिन विदिशा जाकर हमने ट्रेन पकड़ी ।



Comments

आप यहाँ पर सैर gk, question answers, general knowledge, सैर सामान्य ज्ञान, questions in hindi, notes in hindi, pdf in hindi आदि विषय पर अपने जवाब दे सकते हैं।

Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment