आजीवन कारावास की अवधि

Aajeevan Karawas Ki Awadhi

GkExams on 07-02-2019

आजीवन कारावास की सजा उम्र पर्यन्त ही होती है और सुप्रीम कोर्ट भी इस बात का अपने फैसले में स्पष्ट कर चुका है। अर्थात यदि किसी को आजीवन कारावास की सजा दी गई है इसका आशय मृत्युपर्यंत ही है। पहले किसी को आजीवन कारावास की सजा देती थी तो कुछ राजनीतिक बंदी ऐसे होते थे जिनको सरकार एक-दो साल में ही रिहा कर देती थी। सुप्रीम कोर्ट ने यह कह दिया है कि आजीवन कारावास के मामले में सरकार 14 साल बाद ही किसी को चालचलन अथवा अन्य उचित आधार पर सजा को कम कर सकती है।







इसीलिए यह आम धारणा बन गई है कि आजीवन कारावास का मतलब 14 साल की सजा है। जबकि ऐसा नहीं है। अभी कई बार ऐसा होता है कि सुप्रीम कोर्ट सजा की अवधि भी तय करने लगी है, तीस साल या चालीस साल। अमरीका व अन्य देशों में में तो 100 साल 150 साल तक की सजा दी जाती है। यानी अपराधी को जेल में मरना ही है। नीतीश कटारा वाले मामले में भी सुप्रीम कोर्ट ने माना है कि यह कोई इरादतन हत्या का प्रकरण नहीं था। पूर्व नियोजित मर्डर नहीं है। इसलिए मृत्युदंड नहीं दिया। कोर्ट को कई बार ऐसा भी लगता है कि जिसे सजा दी जानी है उसके सुधरने की कोई गुंजाइश नहीं है और जेल से बाहर आना समाज के लिए खतरा हो सकता है तो फिर कोर्ट आजीवन कारावास की सजा देता है। सरकार को यह अधिकार है कि वह आजीवन कारावास की सजा पाए किसी कैदी को 14 साल बाद रिहा कर सकती है। सुप्रीम कोर्ट ने सरकार का यह अधिकार वापस नहीं लिया है



Comments

आप यहाँ पर आजीवन gk, कारावास question answers, अवधि general knowledge, आजीवन सामान्य ज्ञान, कारावास questions in hindi, अवधि notes in hindi, pdf in hindi आदि विषय पर अपने जवाब दे सकते हैं।

Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment