न्यायिक पुनर्विलोकन में न्यायालय को निम्नलिखित अधिकार प्राप्त है -

Nyayayik Punarvilokan Me Nyayalaya Ko NimnLikhit Adhikar Prapt Hai -


A. यदि कोई कानून या आदेश संविधान के विपरीत हो तो उसे अंसवैधानिक घोषित करना
B. निचले न्यायालयों के आदेश का पुनरावलोकन करना
C. निचले न्यायालयों के निर्णय के विरूद्ध अपील सुनना
D. कानून का इस दृष्टि से परीक्षण कि क्या उसके बनाने में निर्धारित प्रक्रिया का अनुपालन हुआ है

Go Back To Quiz

Join Telegram


Comments

आप यहाँ पर न्यायिक gk, पुनर्विलोकन question answers, न्यायालय general knowledge, न्यायिक सामान्य ज्ञान, पुनर्विलोकन questions in hindi, न्यायालय notes in hindi, pdf in hindi आदि विषय पर अपने जवाब दे सकते हैं।


इस टॉपिक पर कोई भी जवाब प्राप्त नहीं हुए हैं क्योंकि यह हाल ही में जोड़ा गया है। आप इस पर कमेन्ट कर चर्चा की शुरुआत कर सकते हैं।

Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment