जैन आगम ग्रन्थ इन हिंदी

Jain Aagam Granth In Hindi

Gk Exams at  2018-03-25


Go To Quiz

Pradeep Chawla on 18-09-2018


jain dharma granth) के सबसे पुराने आगम ग्रंथ 46 माने जाते हैं। इनका वर्गीकरण इस प्रकार किया गया है। समस्त आगम ग्रंथो को चार भागो मैं बांटा गया है:-1. प्रथमानुयोग 2. करनानुयोग 3. चरर्नानुयोग 4. द्रव्यानुयोग।

12 अंगग्रंथ:- 1. आचार, 2. सूत्रकृत, 3. स्थान, 4. समवाय 5. भगवती, 6. ज्ञाता धर्मकथा, 7. उपासकदशा, 8. अन्तकृतदशा, 9. अनुत्तर उपपातिकदशा, 10. प्रश्न-व्याकरण, 11. विपाक और 12. दृष्टिवाद। इनमें 11 अंग तो मिलते हैं, बारहवां दृष्टिवाद अंग नहीं मिलता।

12 उपांगग्रंथ :- 1. औपपातिक, 2. राजप्रश्नीय, 3. जीवाभिगम, 4. प्रज्ञापना, 5. जम्बूद्वीप प्रज्ञप्ति 6. चंद्र प्रज्ञप्ति, 7. सूर्य प्रज्ञप्ति, 8. निरयावली या कल्पिक, 9. कल्पावतसिका, 10. पुष्पिका, 11. पुष्पचूड़ा और 12. वृष्णिदशा।



Comments पूर्णिमा जैन on 27-09-2019

तर्कवाद के लेगक कौन हैं

पूर्णिमा जैन on 27-09-2019

प्रमाण दीपक के लेखक कौन है

प्रमाण दीपक के रचयिता on 18-09-2019

प्रमाण दीपक के रचयिता

Sushma jain on 25-08-2019

देवागम पंजिका के रचियता

Anshul on 12-08-2019

प्रमाण दीपक,प्रमाण नौका, सैन्य काण्ड, तर्क वाद,मरणकंडिका,देवागम पंजिका के रचयिता के नाम

वीना जैन on 30-07-2019

प्रमाण नौक
ग्रंथ के लेखक का नाम


रेणु on 12-05-2019

आगमे मे शतक और उद्देशक का क्या अर्थ है?

किरन जैंन on 12-05-2019

प्रमाण नौका के लेखक का नाम
सैन्य काण्ड के लेखक का नाम
वचन कोश के लेखक का नाम
पंचाध्यायी के लेखक का नाम
.हमे इन लेखकों के नाम चाहिये


किरन जैंन on 12-05-2019

प्रमाण नौका के लेखक का नाम
सैन्य काण्ड के लेखक का नाम
वचन कोश के लेखक का नाम
पंचाध्यायी के लेखक का नाम
.हमे इन लेखकों के नाम चाहिये


Sangeetha nahar on 07-09-2018

Who first translated aagam in Hindi



Labels: , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।

Comment As:

अपना जवाब या सवाल नीचे दिये गए बॉक्स में लिखें।

Register to Comment