जीप पर सवार इल्लियाँ का सारांश

Jeep Par Sawar Iilliyan Ka Saransh

Pradeep Chawla on 18-10-2018

जीप पर सवार इल्लियाँ’ एक ऐसा ‘व्यंग्य-संग्रह’ है जिसकी प्रत्येक रचना में शरद जोशी की पैनी दृष्टि किसी न किसी विसंगति का मार्मिक उद्घाटन करती है और रेखांकित करती है कि शरद जोशी की व्यंग्य-दृष्टि का कहीं कोई जोड़ नहीं है। वस्तुतः संग्रह की रचनाएँ यह बताने के लिए काफ़ी हैं कि शरद जोशी सतत् जागरूक व्यंग्यकार की भूमिका में इसलिए चर्चित हुए कि उनकी नज़र अपने परिवेश पर ही नहीं, अपितु जीवन और समाज की हर छोटी-से-छोटी घटना पर टिकी रहती थी जिसके कारण इस संग्रह की रचनाओं में धर्म, राजनीति, सामाजिक जीवन, व्यक्तिगत आचरण और ऐसा ही बहुत कुछ समाया हुआ है - चकित करता हुआ, चौंकाता हुआ, चुटकी काटता हुआ या गुदगुदाता हुआ। कम शब्दों में कहें तो शरद जोशी की यह कृति ‘जीप पर सवार इल्लियाँ’ व्यंग्य-विधा की कठिन चुनौतियों को पूरा करती है और व्यंग्य के निकष पर खरा उतरती है। उनके व्यंग्य भ्रष्ट नेताओं की कलई खोलनेवाले तो हैं ही, सामाजिक जीवन और लोकतन्त्र की रखवाली भी करते हैं और उनकी व्यंग्य-दृष्टि इतनी पैनी है कि कोई भी विसंगति उससे बिंधे बिना नहीं रह पाती।



Comments Hindi on 10-06-2021

Jeep per Sawar illiya byang ki mukhya smasya kya hai

Aakash on 10-06-2021

Jeep prr sawar illiyan vyang ki mukhya samsya kya h

निबंध on 07-06-2021

जीप पर सवार इलिल्या व्यंग की मुख्य समस्या

Naman Mehta on 08-04-2021

Jeep par savaar illiyein lab published his thi

Sharmin on 24-11-2020

जीप पर सवार इल्लियाँ कितनी है ?

Ram on 22-09-2020

जीप पर सवार इंडिया का सारांश


Ram on 22-09-2020

जीप पर सवार इल्लियाँ के व्यंग को अपने शब्दों में स्पष्ट करें



Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment