भारत भारती के लेखक

Bharat Bharti Ke Lekhak

Gk Exams at  2018-03-25


Go To Quiz

Pradeep Chawla on 12-05-2019

भारत भारती, मैथिलीशरण गुप्तजी

की प्रसिद्ध काव्यकृति है जो 1912-13 में लिखी गई थी। यह स्वदेश-प्रेम को

दर्शाते हुए वर्तमान और भावी दुर्दशा से उबरने के लिए समाधान खोजने का एक

सफल प्रयोग है। भारतवर्ष

के संक्षिप्त दर्शन की काव्यात्मक प्रस्तुति "भारत-भारती" निश्चित रूप से

किसी शोध कार्य से कम नहीं है। गुप्तजी की सृजनता की दक्षता का परिचय

देनेवाली यह पुस्तक कई सामाजिक आयामों पर विचार करने को विवश करती है।

भारतीय साहित्य में भारत-भारती सांस्कृतिक नवजागरण का ऐतिहासिक दस्तावेज

है।



मैथिलीशरण गुप्त जिस काव्य के कारण जनता के प्राणों में रच-बस गए और राष्ट्रकवि कहलाए, वह कृति भारत भारती ही है। आचार्य रामचन्द्र शुक्ल

के शब्दों में पहले पहल हिंदीप्रेमियों का सबसे अधिक ध्यान खींचने वाली

पुस्तक भी यही है। इसकी लोकप्रियता का आलम यह रहा है कि इसकी प्रतियां

रातोंरात खरीदी गईं। प्रभात फेरियों, राष्ट्रीय आंदोलनों, शिक्षा

संस्थानों, प्रात:कालीन प्रार्थनाओं में भारत भारती के पद गांवों-नगरों में

गाये जाने लगे। आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी ने सरस्वती पत्रिका

में कहा कि यह काव्य वर्तमान हिंदी साहित्य में युगान्तर उत्पन्न करने

वाला है। इसमें यह संजीवनी शक्ति है जो किसी भी जाति को उत्साह जागरण की

शक्ति का वरदान दे सकती है। हम कौन थे क्या हो गये हैं और क्या होंगे अभी

का विचार सभी के भीतर गूंज उठा।



यह काव्य 1912 में रचा गया और संशोधनों के साथ 1914 में प्रकाशित हुआ। यह अपूर्व काव्य मौलाना हाली के मुसद्दस के ढंग का है। राजा रामपाल सिंह और रायकृष्णदास इसकी प्रेरणा में हैं। भारत भारती की इसी परम्परा का विकास माखनलाल चतुर्वेदी, नवीन जी, दिनकर जी, सुभद्राकुमारी चौहान, प्रसाद-निराला जैसे कवियों में हुआ।



Comments

आप यहाँ पर भारती gk, लेखक question answers, general knowledge, भारती सामान्य ज्ञान, लेखक questions in hindi, notes in hindi, pdf in hindi आदि विषय पर अपने जवाब दे सकते हैं।

Total views 792
Labels: , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।

Comment As:

अपना जवाब या सवाल नीचे दिये गए बॉक्स में लिखें।

Register to Comment