कर्ता ने कर्म को करण से के द्वारा

Karta ne Karm Ko Karan Se Ke Dwara

Gk Exams at  2018-03-25


Go To Quiz

GkExams on 14-11-2018


कारक एवं उसकी विभक्ति
कारक – संज्ञा या सर्वनाम के जिस रूप या वाक्य के अन्य शब्दों के साथ उसका सम्बन्ध सूचित करता हो उसे ‘ कारक ‘ कहते है | जैसे – रामचंद्र नेखरे जल के समुद्र पर बंदरो सेपल बँधवा दिया |
कारक का रथ व्याकरण में केवल ‘ करनेवाला ‘ नहीं होता है | वाक्य में वह संज्ञा और सर्वनामों में परसर्गों के सहारे अनेक अर्थ प्रकट करता है |

इस अर्थ में उनके आठ भेद होते है | परसर्ग को विभक्ति चिन्ह भी कहते है |
1. कर्त्ता – ने, को
2. कर्म – को, शुन्य
3. करण – से
4. सम्प्रदान – को, के लिए
5. अपादान – से
6. सम्बन्ध – का, के, की
7. अधिकरण – में , पर
8. सम्बोधन – हे, अजी, अहो , अरे |
1. कर्त्ता कारक – वाक्य में जो पद काम करने वाले के अर्थ में होता है उसे कर्त्ता कहते है | जैसे – मोहन पढता है | यहाँ कर्त्ता मोहन है , इसकी विभक्ति ‘ ने ‘ लुप्त है
कर्त्ता के ‘ ने’ चिन्ह का प्रयोग – कर्त्ता के ने चिन्ह का प्रयोग निम्नलिखित परिस्थितियों में होता है –
(A) ‘ ने ‘ का प्रयोग कर्त्ता के साथ होता है जब एकपदीय या संयुक्त क्रिया सकर्मक भूतकालिक होती है | केवल सामान्य भूत, आसन्न बहुत , पूर्ण भूत और संदिग्ध भूतकालों में ‘ ने ‘ की विभक्ति लगती है |
सामान्य भूत – राम ने रोटी खायी
आसन्न भूत– राम न रोटी खायी है
पूर्ण भूत – राम ने रोटी खायी थी
संदिग्ध भूत – राम ने रोटी खायी होगी
(B) सामान्यत: अकर्मक क्रिया में ‘ ने’ की विभक्ति नहीं लगती है | किन्तु कुछ ऐसी अकर्मक क्रियाएँ है जैसे – नहाना , थूकना , खाँसना , जिसके उपर्युक्त भूतकालो में ने चिन्ह का प्रयोग होता है | जैसे उसने थूका , राम ने छींका , उसने खाया, उसने नहाया आदि |
(C) जब अकर्मक क्रिया सकर्मक बन जाये तब कर्त्ता के ‘ ने’ चिन्ह का प्रयोग होता है , अन्यथा नहीं | जैसे – उसने टेढ़ी चाल चली , उसने लड़ाई लड़ी आदि |
कर्त्ता के ‘ ने ‘ चिन्ह की विभक्ति का प्रयोग कहा नहीं होता है –
i. वर्तमान और भविष्य कालो की क्रियाओं में ‘ ने ‘ का प्रयोग नहीं होता है | जैसे – राम जाता है , राम खाएगा आदि |
ii. बकना, बोलना , ले जाना , भूलना , समझना , यद्यपि सकर्मक क्रियाएँ है तथापि इनकी उपर्युक्त भूतकालिक क्रियाओ के कर्त्ता के साथ ‘ ने ‘ चिन्ह का प्रयोग नहीं होता है | जैसे – वह गली बका , वह बोला, वह मुझे भुला आदि |
iii. संयुक्त क्रिया का अंतिम खंड यदि सकर्मक हो तो उसके कर्त्ता के साथ ‘ ने ‘ का प्रयोग नही होता है | जैसे- में खा चुका |
2. कर्म – जिस पर क्रिया का फल पड़े उसे कर्म कहते है | इसकी विभक्ति ‘ को ‘ है | जैसे – राम ने रावण को मारा | यहाँ ‘ रावण को ‘ कर्म है | कभी कभी यह अपने परस्पर के बिना भी आता है | जैसे – सीता फल कहती है , राम रोटी खता है |
3. करण – जिससे काम हो उसे करण कहते है | इसकी विभक्ति ‘ से ‘ है | जैसे – वह कलम लिखता है |
4. सम्प्रदान – जिसके लिए काम किया जाए उसे सम्प्रदान कहते है | इसकी विभक्ति ‘ को ‘ और ‘ के लिए ‘ है | जैसे -शिष्य ने अपने गुरु के लिए सब कुछ किया , गरीब को धन दीजिये आदि |
5. अपादान – जिससे किसी वास्तु को अलग किया जाए उसे ‘ अपादान ‘ कहते है | इसकी विभक्ति ‘ से ‘ है | जैसे – वह अपने वर्ग से बाहर गया , पेड़ से पत्ते गिरे आदि |
6. संबंध – जिससे किसी वास्तु का संबंध हो उसे संबंध कारक कहते है | इसकी विभक्ति ‘ का ‘ ‘की’ और ‘को’ है | जैसे – राम का घर , दिनेश की पुस्तक , गणेश के बेटे आदि | पुरुषवाचक सर्वनाम में ‘ ना’ ,’नी’,’ने’ तथा ‘री’,’रे’ का प्रयोग विभक्ति के रूप में होता है | जैसे – अपना बेटा , अपनी बेटी , अपने बेटे , मेरा बेटा, मेरी बेटी, मेरे बेटे आदि |
7. अधिकरण – जिससे क्रिया का आधार जाना जाए उसे ‘ अधिकरण ‘ कहते है | इसकी विभक्ति ‘में’ और ‘पर’ है | जैसे – लड़की घोड़े पर बैठी | वह अपने घर में बैठा आदि |
8. सम्बोधन – जिससे किसी को पुकारा या सम्बोधित किया जाए उसे सम्बोधन कहते है | इसकी विभक्ति ‘अरे ‘ , ‘हे ‘ आदि है | जैसे – अरे भाई ! , जल्दी जाओ ! , हे राम !, दया करो ! , कुछ लोग इसे कारक नहीं मानते |



Comments

आप यहाँ पर कर्ता gk, कर्म question answers, करण general knowledge, कर्ता सामान्य ज्ञान, कर्म questions in hindi, करण notes in hindi, pdf in hindi आदि विषय पर अपने जवाब दे सकते हैं।

Labels: , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।

Comment As:

अपना जवाब या सवाल नीचे दिये गए बॉक्स में लिखें।

Register to Comment