पाकिस्तान की मांग 1940

Pakistan Ki Mang 1940

Gk Exams at  2018-03-25

Pradeep Chawla on 12-05-2019

लाहौर प्रस्तावना,( : قرارداد لاہور, क़रारदाद-ए-लाहौर; : লাহোর প্রস্তাব, लाहोर प्रोश्ताब), सन 1940 में द्वारा प्रस्तावित एक आधिकारिक राजनैतिक संकल्पना थी जिसे मुस्लिम लीग के 22 से 24 मार्च 1940 में चले तीन दिवसीय सत्र के दौरान पारित किया गया था। इस प्रस्ताव द्वारा के उत्तर पश्चिमी पूर्वी क्षेत्रों में, तथाकथित तौर पर, मुसलमानों के लिए "स्वतंत्र रियासतों" की मांग की गई थी एवं उक्तकथित इकाइयों में शामिल प्रांतों को एवं युक्त बनाने की भी बात की गई थी। तत्पश्चात, यह संकल्पना " " के लिए नामक मैं एक अलग स्वतंत्र स्वायत्त मुल्क बनाने की मांग करने में परिवर्तित हो गया।



हालांकि पाकिस्तान नाम को चौधरी चौधरी रहमत अली द्वारा पहले ही प्रस्तावित कर दिया गया था परंतु सन 1933 तक मजलूम हक मोहम्मद अली जिन्ना एवं अन्य मुसलमान नेता हिंदू मुस्लिम एकता के सिद्धांत पर दृढ़ थे,

परंतु अंग्रेजों द्वारा लगातार प्रचारित किए जा रहे विभाजन प्रोत्साह

गलतफहमियों मैं हिंदुओं में मुसलमानों के प्रति अविश्वास और द्वेष की भावना

को जगा दिया था इन परिस्थितियों द्वारा खड़े हुए अतिसंवेदनशील राजनैतिक

माहौल ने भी पाकिस्तान बनाने के उस प्रस्ताव को बढ़ावा दिया था



इस प्रस्ताव की पेशी के उपलक्ष में प्रतीवर्ष 23 मार्च को में (पाकिस्तान दिवस) के रूप में मनाया जाता है।







अनुक्रम







पृष्ठभूमि व सत्र









मुस्लिम लीग के लाहौर सत्र में भाषण देते हुए मौलाना खलकुज़्ज़माम






को के में के तीन दिवसीय वार्षिक बैठक के अंत में वह ऐतिहासिक संकल्प पारित किया गया था, जिसके आधार पर

ने भारतीय उपमहाद्वीप में मुसलमानों के अलग देश के अधिग्रहण के लिए आंदोलन

शुरू किया था और सात साल के बाद अपनी मांग पारित कराने में सफल रही।



में द्वारा सत्ता जनता को सौंपने की प्रक्रिया के पहले चरण में 1936/1937 में पहले आम चुनाव हुए थे उनमें

को बुरी तरह से हार उठानी पड़ी थी और उसके इस दावे को गंभीर नीचा पहुंची

थी कि वह उपमहाद्वीप के मुसलमानों के एकमात्र प्रतिनिधि सभा है। इसलिए नेतृत्व और कार्यकर्ताओं का मनोबल टूट गए थे और उन पर एक अजब बेबसी का आलम था।



को , यू पी, सी पी, और में स्पष्ट बहुमत हासिल हुई थी, और में उसने दूसरे दलों के साथ मिलकर गठबंधन सरकार का गठन किया था और और में जहां हावी थे को काफी सफलता मिली थी।



पंजाब में अलबत्ता के और में की प्रजा कृषक पार्टी को जीत हुई थी।



ग़रज़ के 11 प्रांतों में से किसी एक राज्य में भी को सत्ता प्राप्त न हो सका। इन परिस्थितियों में ऐसा लगता था, उपमहाद्वीप के राजनीतिक धारा से अलग होती जा रही है।











मुहम्मद जफरुल्ला खान, दस्तावेज के लेखक






इस दौरान

ने जो पहली बार सत्ता के नशे में कुछ ज्यादा ही सिर शार थी, ऐसे उपाय किए

जिनसे मुसलमानों के दिलों में भय और खतरों ने जन्म लेना शुरू कर दिया। जैसे

ने को राष्ट्रभाषा घोषित कर दिया, गाओ क्षय पर पाबंदी लगा दी और के तिरंगे को राष्ट्रीय ध्वज का दर्जा दिया।



इस मामले में की सत्ता खोने के साथ अपने नेतृत्व में यह भावना पैदा हो रहा था कि

सत्ता से इस आधार पर वंचित कर दी गई है कि वह अपने आप को मुसलमानों की

प्रतिनिधि सभा कहलाती है। यही प्रारंभ बिंदु था मुस्लिम लीग के नेतृत्व में

दो अलग राष्ट्रों की भावना जागरूकता कि।



इसी दौरान समर्थन के बदले सत्ता की भरपूर हस्तांतरण के मसले पर और के बीच चर्चा भड़का और सत्ता से अलग हो गई तो के लिए कुछ दरवाजे खुलते दिखाई दिए। और इसी पृष्ठभूमि में में का यह 3 दिवसीय बैठक 22 मार्च को शुरू हुआ।



बैठक से 4 दिन पहले में के

पार्टी ने पाबंदी तोड़ते हुए एक सैन्य परेड की थी जिसे रोकने के लिए पुलिस

ने गोलीबारी की। 35 के करीब दीन मारे गए। इस घटना की वजह से में जबरदस्त तनाव था और में की सहयोगी पार्टी सत्ता थी और इस बात का खतरा था कि दीन के फावड़ा वाहक कार्यकर्ता , का यह बैठक न होने दें या इस अवसर पर हंगामा बरपा है।



संयोग ही गंभीरता के मद्देनजर ने उद्घाटन सत्र को संबोधित किया जिसमें उन्होंने पहली बार कहा कि में समस्या सांप्रदायिक ोरारना तरह का नहीं है बल्कि बेन इंटरनेशनल है यानी यह दो देशों की समस्या है।



उन्होंने कहा कि हिंदुओं और मुसलमानों में अंतर इतना बड़ा और स्पष्ट है

कि एक केंद्रीय सरकार के तहत उनका गठबंधन खतरों से भरपूर होगा। उन्होंने

कहा कि इस मामले में एक ही रास्ता है कि उन्हें अलग ममलकतें हूँ।



दूसरे दिन इन्हीं पदों पर को इस समय के के

ने संकल्प लाहौर दिया जिसमें कहा गया था कि इस तब तक कोई संवैधानिक योजना न

तो व्यवहार्य होगा और न मुसलमानों को होगा जब तक एक दूसरे से मिले हुए

भौगोलिक इकाइयों अलग गाना क्षेत्रों में परिसीमन न हो। संकल्प में कहा गया

था कि इन क्षेत्रों में जहां मुसलमानों की संख्यात्मक बहुमत है जैसे कि

भारत के उत्तर पश्चिमी और पूर्वोत्तर क्षेत्र, उन्हें संयोजन उन्हें मुक्त

ममलकतें स्थापित की जाएं जिनमें शामिल इकाइयों को स्वायत्तता और संप्रभुता

उच्च मिल।



मौलवी इनाम उल द्वारा की पेशकश की इस संकल्प का समर्थन यूपी के मुस्लिम लेगी नेता , पंजाब , सीमा से सिंध से और बलूचिस्तान से ने की। संकल्प को समापन सत्र में पारित किया गया।



अप्रैल सन् 1941 में में मुस्लिम लीग के सम्मेलन में संकल्प लाहौर को पार्टी के में शामिल किया गया और इसी के आधार पर शुरू हुई। लेकिन फिर भी इन क्षेत्रों की स्पष्ट पहचान नहीं की गई थी, जिनमें शामिल अलग मुस्लिम राज्यों की मांग किया जा रहा था।



लाहौर संकल्प का संपादन











पहली बार पाकिस्तान की मांग के लिए क्षेत्रों की पहचान 7 अप्रैल सन् 1946 के तीन दिवसीय सम्मेलन में की गई जिसमें केंद्रीय और प्रांतीय विधानसभाओं के मुस्लिम लेगी सदस्यों ने भाग लिया था। इस सम्मेलन में से आने वाले

के प्रतिनिधिमंडल के सामने मुस्लिम लीग की मांग पेश करने के लिए एक

प्रस्ताव पारित किया गया था जिसका मसौदा मुस्लिम लीग की कार्यकारिणी के दो

सदस्यों और ने तैयार किया था। इस करादाद में स्पष्ट रूप से पाकिस्तान में शामिल किए जाने वाले क्षेत्रों की पहचान की गई थी। पूर्वोत्तर में और और उत्तर पश्चिम में , , और । आश्चर्य की बात है कि इस संकल्प में का कोई जिक्र नहीं था हालांकि उत्तर पश्चिम में मुस्लिम बहुल क्षेत्र था और से जुड़ा हुआ था।



यह बात बेहद महत्वपूर्ण है कि

कन्वेंशन इस संकल्प में दो राज्यों का उल्लेख बिल्कुल हटा दिया गया था जो

संकल्प लाहौर में बहुत स्पष्ट रूप से था उसकी जगह पाकिस्तान की एकमात्र

राज्य की मांग की गई थी।



दस्तावेज के निर्माता

शायद बहुत कम लोगों को यह पता है कि संकल्प लाहौर का मूल मसौदा उस ज़माने के के यूनीनसट मुख्यमंत्री ने तैयार किया था। उस ज़माने में मुस्लिम लीग में एकीकृत हो गई थी और सिर सिकंदर हयात खान के अध्यक्ष थे।



सिर सिकंदर हयात खान ने संकल्प के मूल मसौदे में उपमहाद्वीप में एक

केंद्रीय सरकार के आधार पर लगभग कंडरेशन प्रस्तावित थी लेकिन जब मसौदा

मुस्लिम लीग सब्जेक्ट कमेटी में विचार किया गया तो कायदे आजम मोहम्मद अली

जिन्ना ने खुद इस मसौदे में एकमात्र केंद्र सरकार का उल्लेख मौलिक काट

दिया।



सिर सिकंदर हयात खान इस बात पर सख्त नाराज थे और उन्होंने 11 मार्च सन्

1941 को पंजाब विधानसभा में साफ-साफ कहा था कि उनका पाकिस्तान का नजरिया

जिन्ना साहब के सिद्धांत मुख्य रूप से अलग है। उनका कहना था कि वह

में एक ओर हिन्दउ राज और दूसरी ओर मुस्लिम राज के आधार पर वितरण के सख्त

खिलाफ हैं और वह ऐसी बकौल उनके विनाशकारी वितरण का डटकर मुकाबला करेंगे।

मगर ऐसा नहीं हुआ।



सिर सिकंदर हयात खान दूसरे वर्ष सन 1942 में 50 साल की उम्र में निधन हो गया यूं पंजाब में तीव्र विरोध के उठते हुए हिसार से मुक्ति मिल गई।



सन् 1946 के दिल्ली अधिवेशन में पाकिस्तान की मांग संकल्प ने पेश की और के मुस्लिम लेगी नेता ने इसकी तायद की थी। संकल्प लाहौर पेश करने वाले इस सम्मेलन में शरीक नहीं हुए क्योंकि उन्हें सुन 1941 में सेखारज कर दिया गया था।



दिल्ली सम्मेलन में बंगाल के नेता ने इस संकल्प पर जोर विरोध किया और यह तर्क दिया है कि इस संकल्प लाहौर संकल्प से काफी अलग है जो

के संविधान का हिस्सा है- उनका कहना था कि संकल्प लाहौर में स्पष्ट रूप से

दो राज्यों के गठन की मांग की गई थी इसलिए दिल्ली कन्वेंशन को की इस बुनियादी संकल्प में संशोधन का कतई कोई विकल्प नहीं-



अबवालहाश्म के अनुसार कायदे आजम ने इसी सम्मेलन में और बाद में बम्बई

में एक बैठक में यह समझाया था कि इस समय के बाद उपमहाद्वीप में दो अलग

संविधान विधानसभाओं के गठन की बात हो रही है तो दिल्ली कन्वेंशन संकल्प में

एक राज्य का उल्लेख किया गया है।



लेकिन जब पाकिस्तान की संविधान सभा संविधान सेट करेगी तो वह इस समस्या

के अंतिम मध्यस्थ होगी और यह दो अलग राज्यों के गठन के फैसले का पूरा

अधिकार होगा।



लेकिन की संविधान सभा ने न तो

जीवन में और न जब सन 1956 में देश का पहला संविधान पारित हो रहा था

उपमहाद्वीप में मुसलमानों की दो स्वतंत्र और स्वायत्त राज्यों के स्थापना

पर विचार किया।



25 साल की राजनीतिक उथल-पुथल और संघर्ष और सुन 1971 में

युद्ध के विनाश के बाद लेकिन उपमहाद्वीप में मुसलमानों की दो अलग ममलकतें

उभरीं जिनका मांग संकल्प लाहौर के मामले में आज भी सुरक्षित है।



Comments

आप यहाँ पर पाकिस्तान gk, मांग question answers, 1940 general knowledge, पाकिस्तान सामान्य ज्ञान, मांग questions in hindi, 1940 notes in hindi, pdf in hindi आदि विषय पर अपने जवाब दे सकते हैं।

Labels: , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment