राग दरबारी का सारांश

Raag Darbari Ka Saransh

GkExams on 10-02-2019

रागदरबारी विख्यात साहित्यकार की प्रसिद्ध व्यंग्य रचना है जिसके लिये उन्हें सन् 1970 में पुरस्कार से सम्मानित किया गया। यह ऐसा है जो गाँव की कथा के माध्यम से आधुनिक भारतीय जीवन की मूल्यहीनता को सहजता और निर्ममता से अनावृत करता है। शुरू से अन्त तक इतने निस्संग और सोद्देश्य व्यंग्य के साथ लिखा गया हिंदी का शायद यह पहला वृहत् उपन्यास है।


‘राग दरबारी’ का लेखन 1964 के अन्त में शुरू हुआ और अपने अन्तिम रूप में 1967 में समाप्त हुआ। 1968 में इसका प्रकाशन हुआ और 1969 में इस पर श्रीलाल शुक्ल को साहित्य अकादमी का पुरस्कार मिला। 1986 में एक दूरदर्शन-धारावाहिक के रूप में इसे लाखों दर्शकों की सराहना प्राप्त हुई।


राग दरबारी व्यंग्य-कथा नहीं है। इसमें जी ने स्वतंत्रता के बाद के के ग्रामीण जीवन की मूल्यहीनता को परत-दर-परत उघाड़ कर रख दिया है। राग दरबारी की कथा भूमि एक बड़े नगर से कुछ दूर बसे गाँव शिवपालगंज की है जहाँ की जिन्दगी प्रगति और विकास के समस्त नारों के बावजूद, निहित स्वार्थों और अनेक अवांछनीय तत्वों के आघातों के सामने घिसट रही है। शिवपालगंज की पंचायत, कॉलेज की प्रबन्ध समिति और कोआपरेटिव सोसाइटी के सूत्रधार वैद्यजी साक्षात वह राजनीतिक संस्कृति हैं जो प्रजातन्त्र और लोकहित के नाम पर हमारे चारों ओर फल फूल रही हैं।





Comments Seema chaturvedi on 16-08-2020

Rag darbari Ka nishkarsh

Nikitha on 03-04-2020

Raag Darbari ka Saransh bataiye

राग दरबारी का लेखक कोण है? on 03-06-2019

Srilal sukla



आप यहाँ पर राग gk, दरबारी question answers, general knowledge, राग सामान्य ज्ञान, दरबारी questions in hindi, notes in hindi, pdf in hindi आदि विषय पर अपने जवाब दे सकते हैं।

Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment