पंचतंत्र का सामान्य परिचय

Panchatantr Ka Samanya Parichay



Pradeep Chawla on 12-05-2019

पंचतंत्र एक विश्वविख्यात कथा ग्रन्थ है, जिसके रचयिता आचार्य विष्णु शर्मा है। इस ग्रन्थ में प्रतिपादित राजनीति के पाँच तंत्र (भाग) हैं। इसी कारण से इसे पंचतंत्र नाम प्राप्त हुआ है। भारतीय साहित्य की नीति कथाओं का विश्व में महत्त्वपूर्ण स्थान है। पंचतंत्र उनमें प्रमुख है। पंचतंत्र को संस्कृत भाषा में पांच निबंध या अध्याय भी कहा जाता है। उपदेशप्रद भारतीय पशुकथाओं का संग्रह, जो अपने मूल देश तथा पूरे विश्व में व्यापक रूप से प्रसारित हुआ। यूरोप में इस पुस्तक को द फ़ेबल्स ऑफ़ बिदपाई[2] के नाम से जाना जाता है। इसका एक संस्करण वहाँ 11वीं शताब्दी में ही पहुँच गया था।

संस्कृत में रचित पंचतंत्र



सिद्धांत रूप में पंचतंत्र नीति की पाठ्य पुस्तक[3] के रूप में रचा गया है इसकी सूक्तियाँ परोपकार की जगह चतुराई और घाघपन को महिमामंडित करती जान पड़ती है। इसके मूल ग्रंथ संस्कृत गद्य और छंद पदों का मिश्रण है, जिसके पांच भागों में से एक में कथाएँ है। इसकी भूमिका में समूची पुस्तक के सार को समेंटा गया है। पं॰ विष्णु शर्मा नामक एक विद्वान् ब्राह्मण को इन कहानियों का रचयिता बताया गया है, जिसने उपदेशप्रद पशुकथाओं के माध्यम से एक राजा के तीन मंदबुद्धि बेटों को शिक्षित करने के लिए इस पुस्तक की रचना की थी। प्रमाणों के आधार पर इस ग्रंथ की रचना के समय उनकी उम्र 80 वर्ष के क़रीब थी।

पंचतंत्र नाम



पांच अध्याय में लिखे जाने के कारण इस पुस्तक का नाम पंचतंत्र रखा गया। इस किताब में जानवरों को पात्र बनाकर शिक्षाप्रद बातें लिखी गई हैं। इसमें मुख्यत: पिंगलक नामक सिंह के सियार मंत्री के दो बेटों दमनक और करटक के बीच के संवादों और कथाओं के जरिए व्यावहारिक ज्ञान की शिक्षा दी गई है। सभी कहानियां प्राय: करटक और दमनक के मुंह से सुनाई गई हैं। पंचतंत्र के पांच अध्याय (तंत्र/भाग) है।



मित्रभेद (मित्रों में मनमुटाव एवं अलगाव)

मित्रलाभ या मित्रसंप्राप्ति (मित्र प्राप्ति एवं उसके लाभ)

काकोलुकीयम् (कौवे एवं उल्लुओं की कथा)

लब्धप्रणाश (मृत्यु या विनाश के आने पर यदि जान पर आ बने तो क्या?)

अपरीक्षित कारक (जिसको परखा नहीं गया हो उसे करने से पहले सावधान रहें हड़बड़ी में क़दम न उठायें)



इस पुस्तक की महत्ता इसी से प्रतिपादित होती है कि इसका अनुवाद विश्व की लगभग हर भाषा में हो चुका है। मूल रूप में संस्कृत में रचित इस ग्रंथ का हिंदी भाषा में प्रकाशन कई विदेशी भाषाओं में प्रकाशन के बाद हुआ। अब विलुप्त हो चुकी पंचतंत्र की मूल संस्कृत कृति संभवत: 100 ई.पू. से 500 ई. के बीच किसी समय अस्तित्व में आई थी।

प्रभावपूर्ण कथाएँ



पाँच तंत्रों की ये पाँच प्रमुख कथाएँ हैं। इनके संदर्भ में भी अनेक उपकथाएँ प्रत्येक तंत्र में यथासार आती हैं। प्रत्येक तंत्र इस प्रकार कथाओं की लड़ी-सा ही है। पंचतंत्र में कुल 87 कथाएँ हैं, जिनमें अधिकांश हैं, प्राणी कथाएँ। प्राणी कथाओं का उदगम सर्वप्रथम महाभारत में हुआ। विष्णु शर्मा ने अपने पंचतंत्र की रचना महाभारत से ही प्रेरणा लेकर की है। उन्होंने अपने ग्रन्थ में महाभारत के कुछ संदर्भ भी लिये हैं। इसी प्रकार से रामायण, महाभारत, मनुस्मृति तथा चाणक्य के अर्थशास्त्र से भी श्री विष्णु शर्मा ने अनेक विचार और श्लोकों को ग्रहण किया है। इससे माना जाता है कि श्री विष्णु शर्मा चंद्रगुप्त मौर्य के पश्चात् ईसा पूर्व पहली शताब्दी में हुए होंगे। पंचतंत्र की कथाओं की शैली सर्वथा स्वतंत्र है। उस का गद्य जितना सरल और स्पष्ट है, उतने ही उसके श्लोक भी समयोचित, अर्थपूर्ण, मार्मिक और पठन सुलभ हैं। परिणामस्वरूप इस ग्रन्थ की सभी कथाएं सरस, आकर्षक एवं प्रभावपूर्ण बनी हैं। श्री विष्णु शर्मा ने अनेक कथाओं का समारोप श्लोक से किया है और उसी से किया है आगामी कथा का सूत्रपात।

प्राचीनता



पंचतंत्र की कहानियाँ अत्यन्त प्राचीन हैं। अत: इसके विभिन्न शताब्दियों में, विभिन्न प्रान्तों में, विभिन्न संस्करण हुए हैं। इसका सर्वाधिक प्राचीन संस्करण ‘तंत्राख्यायिका’ के नाम से विख्यात है तथा इसका मूल स्थान काश्मीर है। प्रसिद्ध जर्मन विद्वान् डॉक्टर हर्टेल ने अत्यन्त श्रम के साथ इसके प्रामाणिक संस्करण को खोज निकाला था। उनके अनुसार ‘तंत्राख्यायिका’ या ‘तंत्राख्यान’ ही पंचतंत्र का मूल रूप है। इसमें कथा का रूप भी संक्षिप्त है तथा नीतिमय पद्यों के रूप में समावेशित पद्यात्मक उद्धरण भी कम हैं। संप्रति पंचतंत्र के 4 भिन्न संस्करण उपलब्ध होते हैं। पंचतंत्र की रचना का काल अनिश्चित है, किन्तु इसका प्राचीन रूप डॉक्टर हर्टेल के अनुसार छठी शताब्दी में ईरान की पहलवी भाषा में हुआ था। हर्टेल ने 50 भाषाओं में इसके 200 अनुवादों का उल्लेख किया है। पंचतंत्र का सर्वप्रथम परिष्कार एवं परिबृंहण, प्रसिद्ध जैन विद्वान् पूर्णभद्र सूरि ने संवत् 1255 में किया है और आजकल का उपलब्ध संस्करण इसी पर आधारित है। पूर्णभद्र के निम्न कथन से पंचतंत्र के पूर्ण पिरष्कार की पुष्टि होती है-



प्रत्यक्षरं प्रतिपदं प्रतिवाक्यं प्रतिकथं प्रतिश्लोकम।

श्रीपूर्णभद्रसूरिर्विशेषयामास शास्त्रमिदम्।।[4]



पंचतंत्र का अन्य भाषाओ में अनुवाद



छठी शताब्दी (550 ई.) में जब ईरान सम्राट ‘खुसरू’ के राजवैद्य और मंत्री ने ‘पंचतंत्र’ को अमृत कहा। ईरानी राजवैद्य बुर्ज़ों ने किसी पुस्तक में यह पढ़ा था कि भारत में एक संजीवनी बूटी होती है, जिससे मूर्ख व्यक्ति को भी नीति-निपुण किया जा सकता है। इसी बूटी की तलाश में वह राजवैद्य ईरान से चलकर भारत आया और उसने संजीवनी की खोज शुरू कर दी। उस वैद्य को जब कहीं संजीवनी नहीं मिली तो वह निराश होकर एक भारतीय विद्वान् के पास पहुंचा और अपनी सारी परेशानी बताई। तब उस विद्वान् ने कहा- ‘देखो मित्र इमसें निराश होने की बात नहीं, भारत में एक संजीवनी नहीं, बल्कि संजीवनियों के पहाड़ हैं उनमें आपको अनेक संजीवनियां मिलेंगी। हमारे पास ‘पंचतंत्र’ नाम का एक ऐसा ग्रंथ है जिसके द्वारा मूर्ख अज्ञानी[5] लोग नया जीवन प्राप्त कर लेते हैं।’’ ईरानी राजवैद्य यह सुनकर अति प्रसन्न हुआ और उस विद्वान् से पंचतंत्र की एक प्रति लेकर वापस ईरान चला गया, उस संस्कृत कृति का अनुवाद उसने पहलवी[6] में करके अपनी प्रजा को एक अमूल्य उपहार दिया। हालांकि यह कृति भी अब खो चुकी है।



लेरियाई भाषा में अनुवाद



यह था पंचतंत्र का पहला अनुवाद जिसने विदेशों में अपनी सफलता और लोकप्रियता की धूम मचानी प्रारंभ कर दी। इसकी लोकप्रियता का यह परिणाम था कि बहुत जल्द ही पंचतंत्र का ‘लेरियाई’ भाषा में अनुवाद करके प्रकाशित किया गया, यह संस्करण 570 ई. में प्रकाशित हुआ था।



अरबी में अनुवाद



आठवीं शताब्दी (मृ.-760 ई.) में पंचतंत्र की पहलवी अनुवाद के आधार पर ‘अब्दुलाइन्तछुएमुरक्का’ ने इसका अरबी अनुवाद किया जिसका अरबी नाम ‘मोल्ली व दिमन’ रख गया। आश्चर्य और खुशी की बात तो यह है कि यह ग्रन्थ आज भी अरबी भाषा के सबसे लोकप्रिय ग्रन्थों में एक माना जाता है।



यूरोपीय अनुवाद



इसका सीरियाई अनुवाद, में इसे दो सियारों की पहली कहानी के आधार पर कलिलाह वा दिमनाह के नाम से जाना जाता है। कलिलाह वा दिमनाह का दूसरा सीरियाई संस्करण और 11 वीं शताब्दी का यूनानी संस्करण स्टेफ़्नाइट्स काई इचनेलेट्स समेत कई अन्य संस्करण प्रकाशित हुए, जिनके लैटिन एवं विभिन्न स्लावियाई भाषाओं में इसका अनुवाद हुआ। लेकिन अधिकांश यूरोपीय संस्करणों का स्त्रो 12 वीं शताब्दी में रैबाई जोएल द्वारा अनुदिन हिब्रू संस्करण है।



पंचतंत्र की लोकप्रियता



पंचतंत्र का अरबी अनुवाद होते ही पंचतंत्र की लोकप्रियता बहुत तेजी से बढ़ने लगी। अरब देशों से पंचतंत्र का सफर तेजी से बढ़ा और ग्यारहवीं सदी में इसका अनुवाद यूनानी भाषा में होते ही इसे रूसी भाषा में भी प्रकाशित किया गया। रूसी अनुवाद के साथ पंचतंत्र ने यूरोप की ओर अपने क़दम बढ़ाए, यूरोप की भाषाओं में प्रकाशित होकर पंचतंत्र जब लोकप्रियता के शिखर को छू रहा था तो 1251 ई. में इसका अनुवाद स्पैनिश भाषा में हुआ, यही नहीं विश्व की एक अन्य भाषा हिश्री जो प्राचीन भाषाओं में एक मानी जाती हैं, में अनुवाद प्रकाशित होते ही पंचतंत्र की लोकप्रियता और भी बढ़ गई।



जर्मन भाषा में



1260 में ई. में इटली के कपुआ नगर में रहने वाले एक यहूदी विद्वान् ने जब पंचतंत्र को पढ़ा तो लैटिन भाषा में अनुवाद करके अपने देशवासियों को उपहार स्वरूप यह रचना भेंट करते हुए उसने कहा, ‘साहित्य में ज्ञानवर्धन, मनोरंजक व रोचक रचना इससे अच्छी कोई और हो ही नहीं सकती। इसी अनुवाद से प्रभावित होकर 1480 में पंचतंत्र का ‘जर्मन’ अनुवाद प्रकाशित हुआ, जो इतना अधिक लोकप्रिय हुआ कि एक वर्ष में ही इसके कई संस्करण बिक गए। जर्मन भाषा में इसकी सफलता को देखते हुए ‘चेक’ और ‘इटली’ के देशों में भी पंचतंत्र के अनुवाद प्रकाशित होने लगे।



हितोपदेश



इसका 15 वीं शताब्दी का ईरानी[7] संस्करण अनवर ए सुहेली पर आधारित है। पंचतंत्र की कहानियाँ जावा के पुराने लिखित साहित्य और संभवत: मौखिक रूप से भी इंडोनेशिया तक पहुँची। भारत में 12 वीं शताब्दी में नारायण द्वारा रचित हितोपदेश[8], जो अधिकांशत: बंगाल में प्रसारित हुआ, पंचतंत्र की साम्रगी की एक स्वतंत्र प्रस्तुति जान पड़ता है।



इटैलियन, फ्रेंच भाषा में



1552 ई. में पंचतंत्र का जो अनुवाद इटैलियन भाषा में हुआ, इसी से 1570 ई. में सर टामस नार्थ ने इसका पहला अनुवाद तैयार किया, जिसका पहला संस्करण बहुत सफल हुआ और 1601 ई. में इसका दूसरा संस्करण प्रकाशित हुआ। यह बात तो बड़े-बड़े देशों की भाषाओं की थी। फ्रेंच भाषा में तो पंचतंत्र के प्रकाशित होते ही वहां के लोगों में एक हलचल सी मच गई। किसी को विश्वास ही नहीं हो रहा था कि कोई लेखक पशु-पक्षियों के मुख से वर्णित इतनी मनोरंजक तथा ज्ञानवर्धक कहानियां भी लिख सकता है।



सफलता और संस्करण



इसी प्रकार से पंचतंत्र ने अपना सफर जारी रखा, नेपाली, चीनी, ब्राह्मी, जापानी, भाषाओं में भी जो संस्करण प्रकाशित हुए उन्हें भी बहुत सफलता मिली। रह गई हिन्दी भाषा, इसे कहते हैं कि अपने ही घर में लोग परदेसी बन कर आते हैं। 1970 ई. के लगभग यह हिन्दी में प्रकाशित हुआ और हिन्दी साहित्य जगत् में छा गया। इसका प्रकाश आज भी जन-मानस को नई राह दिखा रहा है और शायद युगों-युगों तक दिखाता ही रहे।




सम्बन्धित प्रश्न



Comments Panchatantra ki shaily on 10-03-2021

Panchatantra ki shaily.

Jagriti on 04-06-2021

पञ्चतंत्र इति ग्रन्थस्य परिचयं लिखत?

Panchtantra kya hai on 11-12-2021

Panchtantar kya hain


Panchatantra ka rahasya on 05-01-2022

Djdj

Shivam on 14-03-2022

पचतंत परिचय





नीचे दिए गए विषय पर सवाल जवाब के लिए टॉपिक के लिंक पर क्लिक करें Culture Current affairs International Relations Security and Defence Social Issues English Antonyms English Language English Related Words English Vocabulary Ethics and Values Geography Geography - india Geography -physical Geography-world River Gk GK in Hindi (Samanya Gyan) Hindi language History History - ancient History - medieval History - modern History-world Age Aptitude- Ratio Aptitude-hindi Aptitude-Number System Aptitude-speed and distance Aptitude-Time and works Area Art and Culture Average Decimal Geometry Interest L.C.M.and H.C.F Mixture Number systems Partnership Percentage Pipe and Tanki Profit and loss Ratio Series Simplification Time and distance Train Trigonometry Volume Work and time Biology Chemistry Science Science and Technology Chattishgarh Delhi Gujarat Haryana Jharkhand Jharkhand GK Madhya Pradesh Maharashtra Rajasthan States Uttar Pradesh Uttarakhand Bihar Computer Knowledge Economy Indian culture Physics Polity


इस टॉपिक पर कोई भी जवाब प्राप्त नहीं हुए हैं क्योंकि यह हाल ही में जोड़ा गया है। आप इस पर कमेन्ट कर चर्चा की शुरुआत कर सकते हैं।

Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment