करौली जिले का इतिहास

Karauli Jile Ka Itihas

Gk Exams at  2018-03-25


Go To Quiz

GkExams on 21-11-2018

जिला करौली का क्षेत्र पुराने करौली राज्य तथा जयपुर राज्य की गंगापुर एवं हिण्डौन निजामतों में आता है। कल्याणपुरी नामक इस क्षेत्र को वर्तमान स्वरूप प्रदान करने का श्रेय यदुवंसी राजाओं को जाता है। कार्ल मार्क्स और कर्नल टॉड ने अपनी पुस्तक में भी इसका वर्णन किया है। करौली राज्य अप्रैल 1949 को मत्स्य संघ में सम्मिलित हुआ बाद में जयपुर राज्य के साथ मिलकर वृहत संयुक्त राज्य राजस्थान का भाग बना। राजस्थान सरकार द्वारा 1 मार्च 1997 को सवाई माधोपुर जिले की पांच तहसीलों को मिलाकर एक अलग जिला करौली का गठन किया। 15 जुलाई 1997 को करौली जिला निर्माण की अधिसूचना जारी करते हुए तत्कालीन मुख्यमंत्री श्री भैरांेसिंह शेखावत ने 19 जुलाई 1997 को इस जिले का उद्धाटन किया। 2011 की जनगणना के अनुसार जिले की जनसंख्या 1458459 तथा क्षेत्रफल 5043 वर्ग किलोमीटर है। राज्य की प्रमुख नदी चम्बल इस जिले को मध्यप्रदेश राज्य से अलग करती है। इस जिले में बहुसंख्या में पाये जाने वाले किले एवं गढ इसके पुराने गौरव की ओर संकेत करते है। इनमें से तिमनगढ, उॅटगिरी, मण्डरायल के किलों का देश के मध्यकालीन इतिहास में प्रमुख स्थान रहा है। तिमनगढ के किले पर यदुवंश की प्रमुखता रही है। सन् 1093 से 1159 में राजा तिमनपाल इस वंश का शक्तिशाली राजा था, जिसने अपनी शक्ति को बढ़ाकर तिमनगढ का निर्माण कराया। ऐतिहासिक महापुरूषों के नाम की अनेक छतरियां इस क्षेत्र में आज भी मौजूद है। तिमनगढ, करौली, हिण्डौन आदि स्थानों में पाये गये प्रारभ्भिक तथा मध्ययुग के मूर्तिकला एवं वास्तुकला के नमूने पुराने समय में भव्य मंदिरों का होना सि़द्ध करते है। राजा मोरध्वज की नगरी गढमोरा करौली जिले में है, जहां आज भी पुराने अवशेष मौजूद है।



Comments

आप यहाँ पर करौली gk, question answers, general knowledge, करौली सामान्य ज्ञान, questions in hindi, notes in hindi, pdf in hindi आदि विषय पर अपने जवाब दे सकते हैं।

Labels: , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।

Comment As:

अपना जवाब या सवाल नीचे दिये गए बॉक्स में लिखें।

Register to Comment