प्रतिभाशाली बालक की विशेषता

Pratibhashali Balak Ki Visheshta

Gk Exams at  2018-03-25


Go To Quiz

Pradeep Chawla on 12-05-2019

विशिष्ट बालकों से अभिप्राय ऐसे बालकों से है जो शारीरिक या मानसिक शीलगुणों में सामान्य बालकों से भिन्न होते हैं। विशिष्ट या असाधरण शब्द का प्रयोग उस शीलगुण या शीलगुण वाले व्यकित के लिए किया जाता हैं,



जो सामान्य व्यकित के शीलगुण से इस सीमा तक विचलित या अलग होते है कि उनके साथियों को उनकी ओर विशेष ध्यान देना पड़ता है, और इससे उनके कार्य प्रभावित होते है।



रेबर के अनुसार विशिष्ट बालक जैसा कि बालमनोविज्ञान में प्रयुक्त होता है, से तात्पर्य अत्यधिक प्रवीण एवं प्रतिभाशाली बालकों के साथ-साथ उन बालकों से भी है जो निम्न बुद्धि या अन्य शिक्षण असमर्थताओं के होते हैं।



स्लेवीन (1991) ने इस प्रकार के बालकों को चार विभिन्न श्रेणियों में विभाजित किया जो कि निम्नलिखित हैं

1. मानसिक असाधरण बालक

2. शारीरिक असाधरण बालक

3. वाणी असाधरण बालक

4. संवेगात्मक असाधरण बालक



Comments पवन सिंह on 12-05-2019

प्रतिभाशाली बालकों की प्रमुख समस्याएं बताइए

कृपाशंकर द्विवेदी, on 12-05-2019

छोटे बच्चो पर शारीरिक दंड से प्रतिभा निखरती हैं या मिट जाती है।

Seema on 07-03-2019

Mit jati hai

khushbu on 26-10-2018

bachho ka mind kitne prakar ka hota he

Rakesh Kumar on 13-10-2018

Prativa shali balko ki visheta ko likhe

P.S. dhakad on 26-09-2018

Pratibhashali balko me kis avastha k lakshan shighra dikhai dete he


Pppppll on 22-09-2018

Pratibhashali baalk ke samaadhan bataiye



Labels: , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।

Comment As:

अपना जवाब या सवाल नीचे दिये गए बॉक्स में लिखें।

Register to Comment