हिन्द महासागर का भारत के लिए महत्व

Hind Mahasagar Ka Bharat Ke Liye Mahatva

GkExams on 23-02-2019

हिन्द महासागर का महत्व उसके जल मार्गों और उसके श्रेत्र में उपलब्ध कच्चे माल के कारण अत्यधिक है । इसके गर्भ में उपलब्ध कच्चे माल के भण्डार महाशक्तियों में प्रतिद्वंन्दिता के कारण है। विश्व का 37% तेल,90% रबड़,70% टिन,79%सोना ,11.5% टंगस्टन,11%निकल,10%जिंक 98% हीरे और 60%यूरेनियम इसके श्रेत्र में पाये जाने की आशा है। हिन्द महासागर विश्व का तीसरा बड़ा महासागर है। यह 10,400km लम्बा 9600km चौड़ा है।यह संसार के 20.6%समुद्री क्षेत्र में फैला है और 47 राज्य उसके तटों को छूते हैं । हिन्द महासागर अटलांटिक और प्रशान्त महासागरों को जोड़ता है। इसका जल आस्ट्रेलिया , एशिया और अफ्रीका तीनों महाद्विपों को छूता है। नौसेनिक नियंत्रण स्थापित करने के लिए महाशक्तियां विशेषकर अमरीका व‌ रूस अपनी उपस्थिति बढ़ाती रही है



Comments

आप यहाँ पर महासागर gk, question answers, general knowledge, महासागर सामान्य ज्ञान, questions in hindi, notes in hindi, pdf in hindi आदि विषय पर अपने जवाब दे सकते हैं।

Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment