आपदा प्रबंधन का महत्व

Apada Prabandhan Ka Mahatva

Pradeep Chawla on 12-05-2019

सूखा, बाढ़, चक्रवाती तूफानों, भूकम्प, भूस्खलन, वनों में लगनेवाली आग, ओलावृष्टि, टिड्डी दल और ज्वालामुखी फटने जैसी विभिन्न प्राकृतिक आपदाओं का पूर्वानुमान नहीं लगाया जा सकता है, न ही इन्हें रोका जा सकता है लेकिन इनके प्रभाव को एक सीमा तक जरूर कम किया जा सकता है, जिससे कि जान-माल का कम से कम नुकसान हो। यह कार्य तभी किया जा सकता है, जब सक्षम रूप से आपदा प्रबंधन का सहयोग मिले। प्रत्येक वर्ष प्राकृतिक आपदाओं से सर्वाधिक प्रभावित होने वाले देशों में भारत का दसवां स्थान है।

परिचय

आपदा प्रबंधन के दो महत्वपूर्ण आंतरिक पहलू हैं। वह हैं पूर्ववर्ती और उत्तरवर्ती आपदा प्रबंधन। पूर्ववर्ती आपदा प्रबंधन को जोखिम प्रबंधन के रूप में जाना जाता है।


आपदा के खतरे जोखिम एवं शीघ्र चपेट में आनेवाली स्थितियों के मेल से उत्पन्न होते हैं। यह कारक समय और भौगोलिक – दोनों पहलुओं से बदलते रहते हैं। जोखिम प्रबंधन के तीन घटक होते हैं। इसमें खतरे की पहचान, खतरा कम करना (ह्रास) और उत्तरवर्ती आपदा प्रबंधन शामिल है।


आपदा प्रबंधन का पहला चरण है खतरों की पहचान। इस अवस्था पर प्रकृति की जानकारी तथा किसी विशिष्ट अवस्थल की विशेषताओं से संबंधित खतरे की सीमा को जानना शामिल है। साथ ही इसमें जोखिम के आंकलन से प्राप्त विशिष्ट भौतिक खतरों की प्रकृति की सूचना भी समाविष्ट है।


इसके अतिरिक्त बढ़ती आबादी के प्रभाव क्षेत्र एवं ऐसे खतरों से जुड़े माहौल से संबंधित सूचना और डाटा भी आपदा प्रबंधन का अंग है। इसमें ऐसे निर्णय लिए जा सकते हैं कि निरंतर चलनेवाली परियोजनाएं कैसे तैयार की जानी हैं और कहां पर धन का निवेश किया जाना उचित होगा, जिससे दुर्दम्य आपदाओं का सामना किया जा सके।


इस प्रकार जोखिम प्रबंधन तथा आपदा के लिए नियुक्त व्यावसायिक मिलकर जोखिम भरे क्षेत्रों के अनुमान से संबंधित कार्य करते हैं। ये व्यवसायी आपदा के पूर्वानुमान के आंकलन का प्रयास करते हैं और आवश्यक एहतियात बरतते हैं।


जनशक्ति, वित्त और अन्य आधारभूत समर्थन आपदा प्रबंधन की उप-शाखा का ही हिस्सा हैं। आपदा के बाद की स्थिति आपदा प्रबंधन का महत्वपूर्ण आधार है। जब आपदा के कारण सब कुछ अस्त-व्यस्त हो जाता है तब लोगों को स्वयं ही उजड़े जीवन को पुन: बसाना होता है तथा अपने दिन-प्रतिदिन के कार्य पुन: शुरू करने पड़ते हैं।

आपदा प्रबंधक के कार्य

आपदा प्रबंधकों को ऐसे प्रभावित क्षेत्रों में सामान्य जीवन बहाल करने का कार्य करना पड़ता है। आपदा प्रबंधन व्यावसायिक समन्वयक के रूप में कार्य करता है। यह सुनिश्चित करता है कि समस्त आवश्यक सहायक साधन और सुविधाएं सही समय पर आपदाग्रस्त क्षेत्र में उपलब्ध हैं, जिससे कम से कम नुकसान होता है।


यह प्रबंधक ऐसे विशेषज्ञ लोगों के समूह का मुखिया होता है, जिनकी सेवाएं आपदा के समय अनिवार्य होती हैं। जैसे-डॉक्टर, नर्स, सिविल इंजीनियर, दूरसंचार विशेषज्ञ, वास्तुशिल्प, इलेक्ट्रीशियन इत्यादि।


आपदा प्रबंधन की सबसे बड़ी चुनौती आपदाग्रस्त सीमा-क्षेत्र और होनेवाली क्षति का आंकलन करना है। इससे इस क्षेत्र का कार्य अत्यधिक वैज्ञानिक प्रक्रिया का रूप ले लेता है। आपदाग्रस्त क्षेत्रों की भौगोलिक एवं आर्थिक स्थितियों के कारण चुनौती और भी बढ़ जाती है।


आपदा अधिकार-क्षेत्र की तमाम सीमाएं लांघ सकती है। विपत्ति के समय अनजान कार्यों की जिम्मेदारी उठाने की आवश्यकता भी उत्पन्न होती है। ऐसी स्थिति से निपटने के लिए विशेष कर्मियों की जरूरत होती है। इससे यह कार्य और अधिक कठिन हो जाता है।





Comments Farida Begum on 25-06-2021

संग्रहालय में आपदा प्रबंधन का महत्व

Farida Begum on 25-06-2021

संग्रहालय में आपदा प्रबंधन का महत्व क्या है

Sachin shukla on 18-06-2021

What is the Importance of Disaster management

Somesh on 07-03-2021

आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 2 (ई) के अनुसार, ‘‘आपदा प्रबंधन’’ का अर्थ उन उपायों की योजना, आयोजन, समन्वय और कार्यान्वयन की निरंतर और एकीकृत प्रक्रिया से है जो निम्न के लिए आवश्यक हैं :-
खतरे या किसी भी आपदा के खतरे की रोकथाम।
किसी भी आपदा के जोखिम या इसकी गंभीरता या परिणामों के जोखिम को कम करना
क्षमता निर्माण
किसी भी आपदा से निपटने के लिए तैयारी।
किसी भी खतरनाक आपदा स्थिति या आपदा के लिए तत्काल प्रतिक्रिया।
किसी भी आपदा के प्रभाव की गंभीरता या परिमाण का आकलन करना।
निकासी, बचाव और राहत।
पुनर्वास और पुनर्निर्माण।


Babita on 03-06-2020

आपदा प्रबंधन की आवश्यकता एंव महत्व की चचा कीजिए।

Saloni on 12-05-2019

Apada ka mahetv kya h or ye importen h


Chapter 5 on 12-05-2019

Ict esg ilfeducation loing

Gaurav KUMAR JHA on 12-05-2019

आपदा प्रबंधन की आवश्यकता

Aarti on 12-05-2019

What is the Importance of Disaster management?

Aarti on 12-05-2019

Aapda kise kehte hai

Bachchu Ram on 12-05-2019

आपदा प्रबंधन का महत्व

Iram on 12-05-2019

aapda prabndhan kya hota h


आकाश कुमार on 12-05-2019

बाढ के कारण



Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment