अनुकूलतम जनसंख्या सिद्धांत

Anukooltam Jansankhya Sidhhant

Pradeep Chawla on 09-09-2018


अनुकूलतम जनसंख्या सिद्धांत (Optimum Population Theory):

इस सिद्धांत की उत्पत्ति जनसंख्या व संसाधनों के सम्बंधों के तुलनात्मक विश्लेषण से हुई है । ब्रिटिश अर्थशास्त्री एडविन केनन को इस सिद्धांत का जनक माना जाता है ।


उनके अनुसार किसी देश की अनुकूलतमजनसंख्या (Optimum Population) से अभिप्राय जनसंख्या के उस आकार से होता है, जो उपलब्ध संसाधन, पूँजी व वर्तमान प्रविधि की स्थिति में अधिकतम प्रति व्यक्ति आय प्रदान करता है ।


यदि वास्तविक जनसंख्या अनुकूलतम से अधिक होती है तो वह देश अति जनसंख्या का देश बन जाता है । इससे विपरीत, यदि वास्तविक जनसंख्या अनुकूलतम जनसंख्या से कम हो तो वह देश न्यून जनसंख्या वाला देश होता है ।


रॉबिन्सन ने अनुकूलतम जनसंख्या की स्थिति में प्रति व्यक्ति अधिकतम उत्पादन एवं कारसौन्डर्स ने प्रति व्यक्ति अधिकतम आर्थिक कल्याण की परिकल्पना की है । डाल्टन ने एडविन केनन के द्वारा व्याख्यायित अनुकूलतम जनसंख्या की स्थिति में प्रति व्यक्ति आय की संकल्पना की सहमति दी है ।



Comments Pankaj on 28-03-2021

Human body mein kitni haddiyan hoti hain

Rahul goutam on 16-09-2020

Jansankhaya ke anukoltam sidhant ko samjhaiye

BHIMSEN KUMBHAKAR on 10-09-2020

Dishant Karan ko prabhavit Karne wale ghatak

UTTAM KUMAR on 07-07-2020

Anukul tum jansankhya siddhant kise kahate Hain

Indrani kumari on 25-05-2020

Iski alochnatamk vakhya ky h??

Khushi Mishra on 20-03-2020

अनुकूलतम जनसंख्या सिद्धांत के प्रवर्तक कौन थे


Ritik verma on 02-02-2020

Anukultam jansankhya kise khate h

Rajan on 14-12-2019

Anukultam adarsh jansankhya ke siddhant ka samarthak

Sweeta on 28-11-2019

Anukultm jnsnkhya ka sutra

Criticism on 17-11-2019

Criticism

Puppy kumari on 14-09-2019

Anukultam jansankhya ka Siddhant



Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment