निम्न मंगल दोष क्या है

Nimn Mangal Dosh Kya Hai

GkExams on 27-12-2018


कुण्डली में जब प्रथम, चतुर्थ, सप्तम, अष्टम या द्वादश भाव में मंगल होता है तब मांगलिक दोष लगता है। इस दोष को शादी के लिए अशुभ माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि ये दोष जिनकी कुण्डली में होता है, उन्हें मंगली जीवनसाथी ही तलाश करनी चाहिए।


कुंडली में सातवां भाव जीवन साथी और गृहस्थ सुख का है। इन भावों में बने मंगल अपनी दृष्टि या स्थिति से सप्तम भाव अर्थात गृहस्थ सुख को हानि पहुंचाता है। ज्योतिशास्त्र में कुछ नियम बताए गए हैं जिससे शादीशुदा जीवन में मांगलिक दोष नहीं लगता है।


मांगलिक होने का मतलब


कोई जातक चाहे वह स्‍त्री हो या पुरुष, उसके मांगलिक होने का मतलब है कि उसकी कुण्‍डली में मंगल अपनी प्रभावी स्थिति में है। शादी के लिए मंगल को जिन स्‍थानों पर देखा जाता है, वो 1,4,7,8 और 12 भाव हैं। इनमें से केवल आठवां और बारहवां भाव सामान्‍य तौर पर खराब माना जाता है। सामान्‍य तौर का अर्थ है कि विशेष परिस्थितियों में इन स्‍थानों पर बैठा मंगल भी अच्‍छे परिणाम दे सकता है।


लग्‍न का मंगल व्‍यक्ति के व्यक्तित्व को बहुत ज्यादा तेज बना देता है। चौथे का मंगल जातक को कड़ी पारिवारिक पृष्‍ठभूमि देता है। सातवें स्‍थान का मंगल जातक को साथी या सहयोगी के प्रति कठोर बनाता है। आठवें और बारहवें स्‍थान का मंगल आयु और शारीरिक क्षमताओं को प्रभावित करता है। इन स्‍थानों पर बैठा मंगल अगर अच्‍छे प्रभाव में है तो जातक के व्‍यवहार में मंगल के अच्‍छे गुण आएंगे और खराब प्रभाव होने पर खराब गुण आएंगे।
मांगलिक व्‍यक्ति देखने में कठोर निर्णय लेने वाला, कठोर वचन बोलने वाला, लगातार काम करने वाला, विपरीत लिंग के प्रति कम आकर्षित होने वाला, योजना बनाकर काम करने वाला, कठोर अनुशासन बनाने और उसका पालन करने वाला होता है। वो एक बार जिस काम में जुटे उसे अंत तक करने वाला, नए अनजाने कामों को शीघ्रता से हाथ में लेने वाला और लड़ाई से नहीं घबराने वाला होता है। इन्‍हीं विशेषताओं की वजह से गैर मांगलिक व्‍यक्ति ज्यादा देर तक मांगलिक के साथ नहीं रह पाता।


ये स्थितियां हैं तो नहीं है मंगलदोष


जैसे शुभ ग्रहों का केंद्र में होना, शुक्र द्वितीय भाव में हो, गुरु मंगल साथ हों या मंगल पर गुरु की दृष्टि हो तो मांगलिक दोष का परिहार हो जाता है।


वर-कन्या की कुंडली में आपस में मांगलिक दोष की काट- जैसे एक के मांगलिक स्थान में मंगल हो और दूसरे के इन्हीं स्थानों में सूर्य, शनि, राहू, केतु में से कोई एक ग्रह हो तो दोष नष्ट हो जाता है।


मेष का मंगल लग्न में, धनु का द्वादश भाव में, वृश्चिक का चौथे भाव में, वृष का सप्तम में, कुंभ का आठवें भाव में हो तो भौम दोष नहीं रहता।


कुंडली में मंगल यदि स्व-राशि (मेष, वृश्चिक), मूलत्रिकोण, उच्चराशि (मकर), मित्र राशि (सिंह, धनु, मीन) में हो तो भौम दोष नहीं रहता है।


सिंह लग्न और कर्क लग्न में भी लग्नस्थ मंगल का दोष नहीं होता है। शनि, मंगल या कोई भी पाप ग्रह जैसे राहु, सूर्य, केतु अगर मांगलिक भावों (1,4,7,8,12) में कन्या जातक के हों और उन्हीं भावों में वर के भी हों तो भौम दोष नष्ट होता है। यानी यदि एक कुंडली में मांगलिक स्थान में मंगल हो तथा दूसरे की में इन्हीं स्थानों में शनि, सूर्य, मंगल, राहु, केतु में से कोई एक ग्रह हो तो उस दोष को काटता है।


कन्या की कुंडली में गुरु यदि केंद्र या त्रिकोण में हो तो मंगलिक दोष नहीं लगता अपितु उसके सुख-सौभाग्य को बढ़ाने वाला होता है।


यदि एक कुंडली मांगलिक हो और दूसरे की कुंडली के 3, 6 या 11वें भाव में से किसी भाव में राहु, मंगल या शनि में से कोई ग्रह हो तो मांगलिक दोष नष्ट हो जाता है।


कुंडली के 1,4,7,8,12वें भाव में मंगल यदि चर राशि मेष, कर्क, तुला और मकर में हो तो भी मांगलिक दोष नहीं लगता है।


वर की कुण्डली में मंगल जिस भाव में बैठकर मंगली दोष बनाता हो कन्या की कुण्डली में उसी भाव में सूर्य, शनि अथवा राहु हो तो मंगल दोष का शमन हो जाता है।


मंगल दोष के परिहार स्वयं की कुंडली में (मंगल भी निम्न लिखित परिस्तिथियों में दोष कारक नहीं होगा)


जैसे शुभ ग्रहों का केंद्र में होना, शुक्र द्वितीय भाव में हो, गुरु मंगल साथ हों या मंगल पर गुरु की दृष्टि हो तो मांगलिक दोष का परिहार हो जाता है।


वर-कन्या की कुंडली में आपस में मांगलिक दोष की काट- जैसे एक के मांगलिक स्थान में मंगल हो और दूसरे के इन्हीं स्थानों में सूर्य, शनि, राहू, केतु में से कोई एक ग्रह हो तो दोष नष्ट हो जाता है।


मेष का मंगल लग्न में, धनु का द्वादश भाव में, वृश्चिक का चौथे भाव में, वृष का सप्तम में, कुंभ का आठवें भाव में हो तो भौम दोष नहीं रहता।


कुंडली में मंगल यदि स्व-राशि (मेष, वृश्चिक), मूलत्रिकोण, उच्चराशि (मकर), मित्र राशि (सिंह, धनु, मीन) में हो तो भौम दोष नहीं रहता है।


सिंह लग्न और कर्क लग्न में भी लग्नस्थ मंगल का दोष नहीं होता है। शनि, मंगल या कोई भी पाप ग्रह जैसे राहु, सूर्य, केतु अगर मांगलिक भावों (1,4,7,8,12) में कन्या जातक के हों और उन्हीं भावों में वर के भी हों तो भौम दोष नष्ट होता है। यानी यदि एक कुंडली में मांगलिक स्थान में मंगल हो तथा दूसरे की में इन्हीं स्थानों में शनि, सूर्य, मंगल, राहु, केतु में से कोई एक ग्रह हो तो उस दोष को काटता है।


कन्या की कुंडली में गुरु यदि केंद्र या त्रिकोण में हो तो मंगलिक दोष नहीं लगता अपितु उसके सुख-सौभाग्य को बढ़ाने वाला होता है।


यदि एक कुंडली मांगलिक हो और दूसरे की कुंडली के 3, 6 या 11वें भाव में से किसी भाव में राहु, मंगल या शनि में से कोई ग्रह हो तो मांगलिक दोष नष्ट हो जाता है।


कुंडली के 1,4,7,8,12वें भाव में मंगल यदि चर राशि मेष, कर्क, तुला और मकर में हो तो भी मांगलिक दोष नहीं लगता है।


वर की कुण्डली में मंगल जिस भाव में बैठकर मंगली दोष बनाता हो कन्या की कुण्डली में उसी भाव में सूर्य, शनि अथवा राहु हो तो मंगल दोष का शमन हो जाता है।


जन्म कुंडली के 1,4,7,8,12,वें भाव में स्थित मंगल यदि स्व ,उच्च मित्र आदि राशि -नवांश का ,वर्गोत्तम ,षड्बली हो तो मांगलिक दोष नहीं होगा


यदि 1,4,7,8,12 भावों में स्थित मंगल पर बलवान शुभ ग्रहों कि पूर्ण दृष्टि हो


किसी अनुभवी ज्योतिषी से चर्चा करके ही मंगल दोष निवारण पूजन करना चाहिए। मंगल की पूजा का अंगारेश्वर महादेव, उज्जैन (मध्यप्रदेश) का विशेष महत्व है। अपूर्ण या कुछ जरूरी पदार्थों के बिना की गई पूजा प्रतिकूल प्रभाव भी डाल सकती है।


जन्म कुंडली के 1,4,7,8,12,वें भाव में स्थित मंगल यदि स्व ,उच्च मित्र आदि राशि -नवांश का ,वर्गोत्तम ,षड्बली हो तो मांगलिक दोष नहीं होगा


यदि 1,4,7,8,12 भावों में स्थित मंगल पर बलवान शुभ ग्रहों कि पूर्ण दृष्टि हो



Comments Divyansh on 17-12-2021

Please btae nimn mangal dosh me ger mangli ladki se sadi kar sakte he kya

Neesha on 22-11-2021

Sir muje niman mangal dosh ha to meri bina maglik se shaddi ho sakti hai

Chgani on 01-11-2021

21Aug 1997 ko btao m magalic hu ya nhi

Hariom on 19-09-2021

Nimn mangal dosh

Arpita Kesharwani on 24-08-2021

Meri Dob-7-11-2001, Birth Time-11 Pm, Birth Place-manauri prayagraj UP, Name-arpita kesharwani. Kai Pandit ji kahate hai, uch manglik hai, kuch kahate hai manglik nahi hai. Bahut bari samasya hai. Meri kundali milan nahi ho raha hai. Nimn manglik mil rahe hai to gunn nahi mil raha hai. Kya hai iska samarthan.


Rakesh Kumar Rai on 07-08-2021

Meri suputri ka Dob-28-01-1993, Birth Time-5:40 Pm, Birth Place-Azamgarh UP, Name-Kanchan Rai. Kai Pandit ji kahate hai, uch manglik hai, kuch kahate hai manglik nahi hai. Bahut bari samasya hai. Iski kundali milan nahi ho raha hai. Nimn manglik mil rahe hai to gunn nahi mil raha hai. Kya hai iska samarthan.


Anu on 05-08-2021

Nimmya mangal ho to mangal dosh lgta hai kya

prashant on 21-07-2021

Mera bachay ka janm 17.4.2009 ka kanpur ka hai please batay yah ias/ips ban payigay

10.11.1993 on 16-07-2021

vivah ka yog kab hai

Renuka on 29-06-2021

Nimna Mangal dosh ka kya matlab hai? Or shadi ke liye bhut rishtey dekhe bt shadi ka soch rhe h ho nhi rahi hai kyu aisa?

Priyanka bawse on 15-06-2021

Dob-25/12/96 time-10:15am mujhe koi mangal batata h koi nahi.confusion h.ap shi btae

Preeti on 31-05-2021

Meri date of birth 13/04/1998 hai. But time nhi pta hai..
Mere naam preeti hai..
Or aise hi ladke ka naam chetan hai..
Uski data of birth 27/03/1992 hai toh aap please mujhe bta sakte hai ki..
Kitne gun milte hai..
Or koi essu toh nhi hai please


Mananya on 15-04-2021

Niman or uch mngal dosh me frk hota hai??

Sona pasi on 26-03-2021

Jarur hogi aap sab ki shadi gharane ki jarurt nhi hai apko

Anupam Tripathi. on 22-03-2021

Mera date birth 5-12-1990 hai ladke ka 20-10-1995.mera time 6:56subah aur faizabad hai ladke ka 12:55subah jaunpur Kya Sadi ho sakti hum dono ke .plz btaye.

Pradeep on 22-03-2021

My DOB is 16 Sep 1986 time24-30AM mangal dosh hai kya

Pooja Rathore on 06-02-2021

Sir meri dob 11 September 1997 21.34 pm Jaipur

Sir muje kesa Boy milega

Mere m Low mangl dosh h

Ritu kumari on 24-01-2021

Ritu kumari , janam - 1 December 1996, time 2:42 pm
Avilash, janam -27 April 1994, time 6:20 am
Kya hamari sadi ho sakti hai, kb sadi krna subh hoga


Mohini on 24-01-2021

Sir mera naam mohini ha kya meri love marriage ho sakti ha sumit se.

Mohini on 24-01-2021

Sir kya meri love marriage ho sakti ha

Minaksh on 08-01-2021

Jise mai pasnd krti hu usse sadi ho skti h meri

Neha Verma on 23-11-2020

Ladki- Neha Verma 04-01-1993, time-03:45AM
Ladka- Sushil Kumar-29-05-1989, Time 12:30AM
Kya sadi subh hai

Shantaram on 16-10-2020

लडका प्रतीक जन्मदिन 28नोव्ह1994 सुबाह 7।30 लडकी शामल जन्मदिन 27जून 1996 सुबाह 3।00 शादी कर सकते है

Sunaina on 19-08-2020

Sir Kya nimn or uch mangle. Walo Ki sadhi ho Sakti he gad milna jaruri he. Dev gad or alag koi or ho to Rashi bi milna jaruri he Kya

Manish saini on 21-07-2020

Kya meri kundli me maanglik h
Mera dob 19 June 1987 h time h subah 3 bajkar 5 min delhi

Geeta on 29-06-2020

Kya ye sach hai ki magal dosh inn grho se khtm hota hai

Kajal gandhi on 14-05-2020

Kya meri second marriage hogi?

Pinki on 17-01-2020

Sir, niman mangal dosh kaisa hota h kya shaddi ho skti h



Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment