ट्रेडिशनल ड्रेस ऑफ़ राजस्थान इन हिंदी

ट्रेडिशनल Dress Of Rajasthan In Hindi

Gk Exams at  2018-03-25


Go To Quiz

Pradeep Chawla on 17-10-2018


राजस्थानी वेशभूषा और परिधान (Rajasthani Dress and Cloths)


ये “धरती धोरा री” किसी पहचान की मोहताज़ नही है, और इसी पहचान को और मजबूत करती है यहाँ की वेशभूषा और परिधान | तो चलिए आज हम आपको बताते है कुछ खास राजस्थानी वेशभूषा और परिधान(Rajasthani Dress and Cloths) साथ ही साथ पढ़िए इन वेशभूषा और परिधान(Rajasthani Dress and Cloths) का हमारे शरीर के किस अंग से जुडाव है |

ओढ़नी :

 ट्रेडिशनल ड्रेस ऑफ़ राजस्थान इन हिंदी



शरीर के निचले हिस्से में घाघरा और ऊपर कुर्ती, कांचली पहनने के बाद स्त्रियाँ ओढ़नी ओढ़ती है।

  • तारा भांत की ओढ़नी: आदिवासी स्त्रियों में लोकप्रिय।
  • ज्वार भांत की ओढ़नी : ज्वार के दानों जैसे छोटी – छोटी बिंदी वाली जमीन और बेल – बूटे वाले पल्लू की ओढ़नी।
  • लहर भांत की ओढ़नी : ज्वार भांत जैसी बिंदियों वाला लहरिया।
  • दामणी :मारवाड़ में स्त्रियाँ द्वारा एक विशेष प्रकार की लालरंग की ओढ़नी जिस पर धागों की कसीदाकारी की जाती है|
  • पोमचा : इस ओढ़नी पर कमल की तरह गोल – गोल अभिप्राय बने होते है। बच्चे के जन्म के समय शिशु कि माँ के लिये ननिहाल पक्ष से लाया जाता है।
  • चीड़ का पोमचा –हाडौती क्षेत्र में विधवा स्त्री द्वारा पहने जाने वाली काले रंग की ओढ़नी।
  • कटकी अविवाहित बालिकाओं की ओढनी है।


लहरिया :

श्रावण में विशेष कर तीज के अवसर पर राजस्थान की स्त्रियाँ पहनती है।

सावन की तीज पर लहरिया पगड़ी बंधी जाती है।
  • जयपुर जिला पंचरंगी पगड़ी और सतरंगी लहरियों के लिये प्रसिद्ध है।
  • जयपुर के लाल रंग के लहरिये को राजशाही पगड़ी भी कहते है।

  • जामा :

    शादी या युद्ध जैसे विशेष अवसर पर पहने जाना वाला।


    बुगतरी (बख्तरी) :

    ग्रामीणों द्वारा सफ़ेद रंग की पहने जाने वाली अंगरखी।


    अंगरखी / अंगरखा :

    पुरुषों द्वारा पहना जाने वाला अंगवस्त्र जिस पे सफ़ेद धागे कि कढ़ाई की जाती है।


    चुगा (चोगा) :

     ट्रेडिशनल ड्रेस ऑफ़ राजस्थान इन हिंदी


    संपन्न वर्ग द्वारा अंगरखा के ऊपर पहना जाने वाला वस्त्र


    आतमसुख :

    अंगरखी और चुगा के उपर पहने जाना वाला वस्त्र


    सिटी पैलेस, जयपुर में सब से पुराना आतमसुख सुरक्षित है।


    पटका / कमरबंध :

    जामा के ऊपर कमरबंध बंधा जाता था जिस में तलवार होती थी।


    रेनसाई :

    आदवासी स्त्रियों द्वारा पहना जाने वाला काले रंग का भूरे – लाल रंग बूटियों वाला लहंगा


    कुर्ती-कांचली :

    स्त्रियों द्वारा शरीर के उपरी हिस्से हिस्से में पहने जाने वाले वस्त्र को कुर्ती-कांचली कहा जाता है। बिना बाँह वाली चोली आंगी कहलाती है।


    कापड़ी :

    कपडे के 2 टुकड़ो को जोड़ कर बनायीं गयी चोली जो पीठ पर तनियों से बाँधी जाती है।


    अन्य वस्त्र :

    वस्त्रकिस के द्वाराविवरण
    अंगोछापुरुषो द्वारासिर पर पहना जाता है
    ब्रिचेसपुरुषो द्वाराकमर के नीचे पहना जाता है
    कटकीअविवाहित युवतियों
    द्वारा
    लाल रंग की होती है
    चीरस्त्रियों द्वारा
    चारसोस्त्रियों द्वारा
    दुकूलस्त्रियों द्वारा
    भाखला (भाकली)ग्रामीण क्षेत्र में सर्दी के बचाव के लिये
    सादा पेच वाली पगड़ीपुरुषो द्वाराहाड़ोती क्षेत्र में पहनी जाती है
    पछेवाडापुरुषो द्वारासर्दी से बचने के लिये कम्बल की तरह ओढा जाने वाला वस्त्र
    ऊपरणीपुरुषो द्वारापगड़ी के ऊपर बाँधा जाने वाला वस्त्र
    पंवरीस्त्रियों द्वारालाल या गुलाबी रंग की दुल्हन कि ओढ़नी
    कँवरजोड़स्त्रियों द्वारामामा द्वारा विवाह के अवसर पर आपनी भांजी के लिये लायी गयी ओढ़नी
    धनकबड़ी – बड़ी चोकोर बूंदों से बना
    तिलकास्त्रियों द्वारामुस्लिम स्त्रियाँ चूड़ीदार पायजामा के ऊपर एक चोगा पहनती है
    चाँदणीस्त्रियों द्वारापर्दाशीन स्त्रियों का पर्दा करने का वस्त्र
    पंछासहरिया जनजाति द्वारा पहने जाने वाली ऊँची धोती
    सलूकासहरिया जनजाति द्वारा शरीर के ऊपर का वस्त्र
    इकताईवर – वधु के कपडे के लिये शादी से पहले दरजी द्वारा मुहूर्त में नाप लेना
    सौड़रजाई के नीचे ओढने का वस्त्र
    अवोचणपर्दाशीन स्त्रियों का सिर पर ओढने का वस्त्र
    बलाबंदपुरुषो द्वारापगड़ी के ऊपर बाँधा जाने वाला जरीदार वस्त्र
    बागौपुरुषो द्वाराघेर वाले पुरषों की सर कि पाग
    खपटापुरुषो द्वारासहरिया जनजाति का साफा
    फड़कास्त्रियों द्वारामराठी अंदाज़ में पहनी गयी साड़ी

    अन्य तथ्य :

    बातिकडूंगरशाही ओढ़नी का संबंध इस कला से हैसूरज बख्शांपगड़ी बांधने वाला व्यक्तिउन का घाघराविश्नोई जाती की महिलाएं पहनती हैकेसरिया पागगर्मियों में बाँधी जाती हैकसुम्बी पागसर्दियों में बाँधी जाती हैपाग – पगड़ियाँशोक के अवसर पर पहनी जाती हैआंटे वाली पगड़ियासुनार पहनते हैमोटी पट्टेदार पगड़ीबंजारे पहनते हैचूंदड़ी साफाजोधपुर की तरफ पहना जाता है



    Comments 123 on 03-10-2019

    123



    आप यहाँ पर ट्रेडिशनल gk, ड्रेस question answers, general knowledge, ट्रेडिशनल सामान्य ज्ञान, ड्रेस questions in hindi, notes in hindi, pdf in hindi आदि विषय पर अपने जवाब दे सकते हैं।

    Total views 780
    Labels: , , ,
    अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।
    आपका कमेंट बहुत ही छोटा है
    Comment As:

    अपना जवाब या सवाल नीचे दिये गए बॉक्स में लिखें।

    Register to Comment