सल्फर को जलाने पर

Sulfur Ko Jalane Par

Pradeep Chawla on 12-05-2019


खान से निकले गंधक के खनिज को भट्ठे के, जिसे कालकेरोनी (Calcaroni) कहते हैं। ढालवें तल पर जलाने से कुछ गंधक जलकर जो उष्मा उत्पन्न करता है उससे खनिज का शेष गंधक पिघल और बहकर अपद्रव्यों से अलग हो जाता है। इस प्रकिया में गंधक का एक तिहाई अंश जलकर नष्ट हो जाता है। फिर ऐसे भट्ठे बने जिनके एक भट्ठे की गरम गैसों से दूसरा भट्ठा गरम होता था इससे गंधक की हानि कुछ कम हो गई। जापान में खान से निकले गंधक को बंद भभके में गरम कर गंधक के वाष्प के आसवन से गंधक प्राप्त हद्मने लगा। भभकों को भाप से अथवा ऑटोक्लेब में अतितप्त जल से गरम करते थे। आजकल फ्रैश विधि (Frasch process) से अमरीका में खानों से गंधक निकाला जाता है वहां 200 से 2,000 फुट तक की गहराई में गंधक पाया जाता है। खानों में छेद करके संकेंद्रित नलीवाली पाइप बैठाई जाती है बाहर से अतितप्त जल प्रवाहित करने से गंधक पिघलकर गड्ढे में इकट्ठा होता है, जहाँ से संपीड़ित वायु के सहारे बीच की नली से पिघला गंधक बाहर निकालकर, लकड़ी के साँचों में डालकर, बत्ती के रूप में प्राप्त किया जाता है।



Comments Deepak Singh on 12-05-2019

सल्फर को जलाने पर क्या होता है

suraj singh on 12-05-2019

Salfar sukhne par jalne par aur gela ho

ne par kitne kilo ka ho jata hai

Fuzail ahmad on 12-05-2019

Sulfar 1kg, jalne par 3kg,aur bhignay par 2kg ho jata hai

Sam on 12-05-2019

Sulfar ki khusbu kesi hoti h



Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment