वेदांत दर्शन की ज्ञान मीमांसा

Vedant Darshan Ki Gyan Mimansa

GkExams on 22-02-2019

वेदांत दर्शन ( उत्तरमीमांसा )




उत्तरमीमांसा को ब्रह्मसूत्र , शारीरिक सूत्र , ब्रह्म मीमांसा तथा वेद का अंतिम तात्पर्य बतलाने से वेदान्तदर्शन और वेदांत मीमांसा भी कहते हैं |




वेदांत दर्शन में चार अध्याय हैं और प्रत्येक अध्याय चार पादों में विभक्त हैं |




1. समन्वय अध्याय



इसमें सारे वेदांतवाक्यों का एक मुख्य तात्पर्य ब्रह्म में दिखाया गया हैं |



पहले पाद में उन वाक्यों पर विचार है, जिनमें ब्रह्म का चिन्ह सर्वज्ञातादि स्पष्ट है |
दूसरे पाद में उन वाक्यों पर विचार है, जिनमें ब्रह्म का चिन्ह स्पष्ट हैं और तात्पर्य उपासना मैं है |
तीसरे पाद में उन वाक्यों पर विचार है, जिनमें ब्रह्म का चिन्ह स्पष्ट हैं और तात्पर्य ज्ञान मैं है |
चौथे में संदिग्ध पदों पर विचार है |




2. अविरोध अध्याय



इसमें दर्शन के विषय का तर्क से श्रुतियों का परस्पर अविरोध दिखाया गया है |



पहले पाद में इस दर्शन के विषय का स्मृति और तर्क से अविरोध;



दूसरे में विरोधी तर्कों के दोष;



तीसरे में पंचमहाभूतों के वाक्योँका परस्पर अविरोध और



चौथे में लिंग-शरीर-वाक्यों का परस्पर अविरोध दिखाया गया है |




3. साधन अध्याय



इसमें विद्या के साधनों का निर्णय किया गया है |



पहले पाद में मुक्ति से नीचे के फलों में त्रुटि दिखलाकर उनसे वैराग्य;



दूसरे में जीव और ईश्वर में भेद दिखलाकर ईश्वर को जीव के लिए फलदाता होना;



तीसरे में उपासना का स्वरुप और
चौथे में ब्रह्म दर्शन के बहिरंग तथा अंतरंग साधनों का वर्णन है |




4. फलाध्याय



इसमें विद्या के फल का निर्णय दिखलाया है |




पहले पाद में जीवन्मुक्ति;
दूसरे में जीवन्मुक्त की मृत्यु;
तीसरे में उत्तरगति और
चौथे में ब्रह्म प्राप्ति और ब्रह्म लोक का वर्णन है |



अधिकरण –



पादों में जिन जिन अवांतर विषयों पर विचार किया गया है उनका नाम अधिकरण है |


वे निम्नलिखित है –


1. ईश्वर,
2. प्रकृति,
3. जीवात्मा,
4. पुनर्जन्म,
5. मरने के पीछे के अवस्थाएं,
6. कर्म,
7. उपासना,
8. ज्ञान,
9. बंध,
10. मोक्ष |


इस दर्शन के अनुसार –



1. हेय – दुःख का मूल जडतत्त्व है अर्थात दुःख जडतत्त्व का धर्म है |



2. हेयहेतु – दुःख का कारण ज्ञान अर्थात जडतत्त्व को भूल से चेतनतत्त्व मान लेना है |



चारों अंतःकरण मन, बुद्धि, चित्त, अहंकार और इन्द्रियों तथा शरीर में अहंभाव पैदा कर लेना और उनके विषय में ममत्व पैदा कर लेना ही दुखों में फंसना है |




3. हान – दुःख का नितान्त अभाव की अवस्था ‘स्वरुपिस्थिति’ अर्थात जड़त्व से अपने को सर्वथा भिन्न करके निर्विकार निर्लेप शुद्ध परमात्मा स्वरुप में अवस्थित होना है |




4. हानोपाय – हानोपाय अर्थात नितान्त दुःखनिवृत्ति का उपाय ‘परमात्मा तत्त्व का ज्ञान’ है | जहाँ दुःख, अज्ञान, भ्रम आदि लेशमात्र भी नहीं है और जो पूर्ण ज्ञान और शक्ति का भण्डार है |




हानोपाय – उत्तरमीमांसा में ज्ञानियों एवं सन्यासियों किए लिए,


मुक्ति का साधन ज्ञान द्वारा तीसरे तत्त्व अर्थात परमात्मा की उपासना बतलायी गयी है ,


वहॉं पूर्वमीमांसा में कर्मकाण्डी गृहस्थियों के लिए यज्ञों द्वारा व्यष्टि रूप से उसी ब्रह्म की उपासना बतलायी गयी है |



यह उत्तर मींमांसा ( वेदांत दर्शन ) निवृत्ति मार्ग वाले ज्ञानियों तथा सन्यासियों के लिए वेदव्यास जी ने स्वयं रची है |





Comments

आप यहाँ पर वेदांत gk, मीमांसा question answers, general knowledge, वेदांत सामान्य ज्ञान, मीमांसा questions in hindi, notes in hindi, pdf in hindi आदि विषय पर अपने जवाब दे सकते हैं।

Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment