मूल मात्रक

Mool Matrak

Gk Exams at  2018-03-25

Pradeep Chawla on 12-05-2019

मूल मात्रक मात्रकों में वे मात्रक हैं, जो अन्य मात्रकों से स्वतंत्र होते हैं, अर्थात् उनको एक–दूसरे से अथवा आपस में बदला नहीं जा सकता है। उदाहरण के लिए लम्बाई, समय और द्रव्यमान के लिए क्रमश: मीटर, सेकेण्ड और किलोग्राम का प्रयोग किया जाता है।

SI पद्धति में मूल मात्रक राशि मात्रक संकेत

लम्बाई (दूरी) मीटर m

द्रव्यमान किग्रा. kg

समय सेकेण्ड s

ताप कैल्विन k

विद्युत धारा ऐम्पियर a

ज्योति तीव्रता कैण्डला Cd

पदार्थ की मात्रा मोल mol

पूरक मूल मात्रक

तलीय कोण रेडियन Rd

घन कोण स्टेरेडियन Srd

माप तौल की कुछ अन्य पद्धतियाँ



माप तौल की कुछ अन्य पद्धतियाँ निम्नवत् हैं—



एम. के. एस. पद्धति- इस पद्धति में लम्बाई (दूरी) का मात्रक मीटर, द्रव्यमान के मात्रक किग्रा व समय का मात्रक सेकेण्ड होता है।



सी. जी. एस. पद्धति- इस पद्धति में लम्बाई (दूरी) का मात्रक सेंटीमीटर, द्रव्यमान का मात्रक ग्राम व समय का मात्रक सेकेण्ड होता है।



एफ. पी. एस. पद्धति- इस पद्धति में लम्बाई (दूरी) का मात्रक फुट, द्रव्यमान का मात्रक पाउण्ड व समय का मात्रक सेकेण्ड होता है। इसे ब्रिटिश पद्धति भी कहते हैं।



Comments नेकराम on 16-10-2019

Mool matra ka kelvin ko parbhshit kijiye

Ankit Rao on 17-07-2019

Seven mool rasiya and mool matrak easily in hindi

Santosh on 12-05-2019

Dain kis paddti ka matrak hai

Maniah kumar kannaojiya on 11-08-2018

Power ka mul matrak



Total views 1039
Labels: , मात्रक , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।
आपका कमेंट बहुत ही छोटा है



Register to Comment