राजस्थान वन नीति

Rajasthan Van Neeti

Pradeep Chawla on 14-10-2018

राजस्थान में वन सम्पदा

- राजस्थान में सर्वप्रथम वनों के संरक्षण की योजना जोधपुर नरेश ने 1910 ई. में बनाई थी।

- राजस्थान की कुल वन सम्पदा का सर्वाधिक भाग उदयपुर जिले में तथा न्यूनतम भाग चुरू जिले में है।

- जिले के क्षेत्रफल की दृष्टि से बांसवाड़ा जिले का प्रथम स्थान हैं जबकि सबसे कम जैसलमेर जिले में हैं।

- राज्य ने अपनी वन नीति द्वितीय पंचवर्षीय योजना में घोषित की थी।

- राजस्थान में राज्य वन्य पशु एंवम पक्षी संरक्षण अधिनियम 1951लागू किया गया।

- वन्य जीव सुरक्षा अधिनियम 1972 9 सितम्बर 1972 ई.को लागू किया गया।

- बाड़मेर का चौहटन क्षेत्र गोंद के लिए प्रसिद्ध हैं।

- फूलों से लदे पलास वृक्ष को फ्लेम ऑफ़ दी फोरेस्ट कहा जाता हैं।

- राज्य वृक्ष खेजड़ी को शमी वृक्ष,थार का कल्पवृक्ष एंवम जांटी भी कहा जाता हैं।

- तेंदू पत्ते को स्थानीय भाषा में टिमरू कहा जाता हैं।

- देश का प्रथम मरू वानस्पतिक उद्यान माचिया सफारी पार्क जोधपुर में स्थित हैं।

- भाद्रपद शुक्ला दशमी को जोधपुर के खेजड़ली गाँव में विश्व का एकमात्र वृक्षमेला भरता हैं।

- अमृता देवी पुरुस्कार की स्थापना 1994 ई.को हुई थी।

- पोकरण व जैसलमेर के मध्य लाठी सीरीज सेवण घास के लिए प्रसिद्ध हैं।

- बीकानेर,चुरू,जोधपुर आदि जिलों में घास के मैदान व चरागाहों को स्थानीय भाषा में बीड कहा जाता हैं।

- खैर वृक्ष के तने से हांड़ी प्रणाली के द्वारा कत्था तैयार किया जाता हैं।

- राजस्थान को वन प्रबंधन हेतु 13 वृतों में बाँटा गया हैं।

- शुष्क वन अनुसंधान केंद्र (AFRI) जोधपुर में स्थित हैं।

- वानिकी प्रशिक्षण संस्थान जयपुर,अलवर एंवम जोधपुर में स्थित हैं।

- मोपेन,इजरायली बबूल एंवम होहोबा विदेशी रेगिस्तानी पौधे हैं



Comments Jai on 05-02-2021

Rajasthan ki vartmaan van niti ka year konsa hain

Vasudev on 23-12-2019

Rajasthan m pahele van niti kab bani thi

राजस्थान वश सरक्षण केंद्र कहां स्थित है on 08-12-2019

Jodhapur

Punit saini on 12-05-2019

Van mhotasab kab banaya jataa hai



Labels: , , , , ,
अपना सवाल पूछेंं या जवाब दें।




Register to Comment