परिसीमन आयोग के कार्य Pariseeman Ayog Ke Karya Gk ebooks

Sponsored Links

Rajesh Kumar at  2016-09-12  at 09:30 PM

परिसीमन आयोग के कार्य Pariseeman Ayog Ke Karya

भारत संविधान के अनुच्‍छेद 82 के अन्‍तर्गत केन्‍द्र सरकार को परिसीमन अधिनियम , 2002 के अनुसार परिसीमन आयोग के गठन हेतु अधिकार प्रदत किए गए है । परिसीमन आयोग राज्‍यों में विधानसभा एवं लोकसभा निर्वाचन क्षेत्रों की सीमाओं का निर्धारण करता है । वर्तमान में न्‍यायमूर्ति कुलदीपसिंह की अध्‍यक्षता में गठित परिसीमन आयोग की आदेश संख्‍या 16 दिनांक 25 जनवरी , 2006 दिनांक 18 फरवरी 2008 से लागू है इसके अनुसार राज्‍य में लोकसभा के लिए 25 क्षेत्र अधिसूचित है जिसमें से 4 क्षेत्र अनुसूचित जाति एवं 3 क्षेत्र अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित है । आयोग द्वारा विधानसभा हेतु 200 निर्वाचन क्षेत्र अधिसूचित किए गए है जिसमें 34 क्षेत्र अनुसूचित जाति ( एससी ) एवं क्षेत्र अनुसूचित जनजाति ( एसटी ) के लिए आरक्षित है । परिसीमन के बाद जयपुर जिले में विधानसभा सीटों की संख्‍या में सर्वाधिक वृद्धि‍ ( चार सीटों ) की हुई है और अब जिले में 19 विधानसभा सीटें हो गई है ।

लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र लोकसभा निर्वाचन क्षेत्रों का निर्धारण 200 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों को 8 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र के गुणन में विभाजित कर किया गया है । अर्थात प्रत्‍येक लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में 8 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र है ।

अलवर , बिकानेर व नागौर लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र का विस्‍तार केवल संबंधित जिले में ही है ।

जयपुर जिला ही प्रमुख दो लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में विभक्‍त है ।

राजसमंद लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र एकमात्र ऐसा लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र है जिसका विस्‍तार चार जिलों – राजसमंद , पाली , अजमेर व नागौर में है ।

3 लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र दौसा , उदयपुर व चितौड़गढ का विस्‍तार 3 - 3 जिलों में है ।

बांसवाड़ा लोसभा निर्वाचन क्षेत्र क्षेत्र ही एकमात्र ऐसा क्षेत्र है जिसके सभी विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित है ।

जोधपुर लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र ही एकमात्र ऐसा लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र है जिसका एक भी विधानसभा क्षेत्र अनुसूचित जाति या जनजाति के लिए आरक्षित नहीं है ।

क्षेत्रफल की दृष्टि से राज्‍य का सबसे बड़ा लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र बाड़मेर है ।





, PariSeeman, Aayog, newline, Bhaarat, Samvidhan, Ke, Anuchhed, 82, Antargat, kendra, Sarkaar, Ko, Adhiniyam, ,, 2002, Anusaar, Gathan, Hetu, Adhikar, Pradat, Kiye, Gaye, Hai, ।, Rajyon, Me, Vidhansabha, Aivam, Loksabha, Nirvaachan, Area, Ki, Borders, Ka, Nirdharan, Karta, Vartman, Nyaymoorti, Kuldeepsingh, Adhyakshta, Gathit, Adesh, Sankhya, 16, Dinank, 25, January, 2006, 18, February, 2008, Se, Lagu, Iske, Rajy, Liye, Shetra, Adhisoochit, Jisme, 4, Anusoochit, Jati, 3, JanJati, Aarakshit, Dwara, 200, 34, (, SC, ), ST, Baad, Jaipur, Jile, Seets, Sarwaadhik, Vridhi, Char, Hui, Aur, Ab, 19, Seetein, Ho, Gayi, 8, Gunan, Vibhajit, Kar, Kiya, Gaya, Arthaat, Pratyek, Alwar, Bikaner, Wa, Nagaur, Vistar, Kewal, Sambandhit, Hee, Zila, Pramukh, Do, Vibhakt, RajSamand, Ekmatra, Aisa, Jiska, Zilon, -, Pali, Ajmer, Dausa, Udaipur, Chittorgadh, Banswara, LokSabha, Jiske, Sabhi, Jodhpur, Ek, Bhi, Ya, Nahi, Shetrafal, Drishti, Sabse, Bada, Badmer
PariSeeman, Aayog, newline, Bhaarat, Samvidhan, Ke, Anuchhed, 82, Antargat, kendra, Sarkaar, Ko, Adhiniyam, ,, 2002, Anusaar, Gathan, Hetu, Adhikar, Pradat, Kiye, Gaye, Hai, ।, Rajyon, Me, Vidhansabha, Aivam, Loksabha, Nirvaachan, Area, Ki, Borders, Ka, Nirdharan, Karta, Vartman, Nyaymoorti, Kuldeepsingh, Adhyakshta, Gathit, Adesh, Sankhya, 16, Dinank, 25, January, 2006, 18, February, 2008, Se, Lagu, Iske, Rajy, Liye, Shetra, Adhisoochit, Jisme, 4, Anusoochit, Jati, 3, JanJati, Aarakshit, Dwara,


Labels,,,
Sponsored Links